shabd-logo

सामाजिक की किताबें

Social books in hindi

विभिन्न विषयों पर सामाजिक पुस्तकों को पढ़ें Shabd.in पर। हमारा यह संग्रह समाज के विभिन्न पहलुओं को उजागर करता है। इस संग्रह की मदद से हम पारिवारिक रिश्ते, जात-पात, अमीर-गरीब, दहेज, रंग भेद जैसे कई मुद्दों पर समाज को रौशनी दिखाने का प्रयास करते हैं। इसके अलावा भी भौगोलिक स्थिति के वजह से हाशिये पर रहे समाज की स्थिति पर भी हम समीक्षा देते हैं। तो चलते हैं समाजिक पहलुओं पर चेतना जगाने Shabd.in के साथ।
सूर्य का स्वागत

दुष्यंत कुमार का जन्‍म उत्तर प्रदेश में बिजनौर जनपद की तहसील नजीबाबाद के ग्राम राजपुर नवादा में हुआ था। जिस समय दुष्यंत कुमार ने साहित्य की दुनिया में अपने कदम रखे उस समय भोपाल के दो प्रगतिशील शायरों ताज भोपाली तथा क़ैफ़ भोपाली का ग़ज़लों की दुनिया प

59 पाठक
50 अध्याय
28 जुलाई 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

आप और हम जीवन के सच

आप और हम जीवन के सच में हकीकत और कल्पना के साथ किरदार हम सभी है बस हम सभी पाठकों को रचना में समाज के साथ हैं और हमारे मन भावों की बात है परंतु हम जीवन में बहुत से सच जान कर भी बचते हैं। आओ पढ़े

0 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
1 अध्याय
11 मई 2023
अभी पढ़ें
14
ईबुक

जब टूटा गुरूर

मैंने अपने इस उपन्यास में औरत के अहंकार से होने वाली पारिवारिक तबाही को दर्शाने की कोशिश की है औरत अहंकार में आकर दूसरों के साथ साथ अपना भी जीवन बर्बाद कर लेती है पर इसका अहसास उसे बहुत बाद में होता है तब कुछ नहीं किया जा सकता सिवाय पश्चाताप के

16 पाठक
2 लोगों ने खरीदा
8 अध्याय
15 मई 2022
अभी पढ़ें
53
ईबुक

भेदभाव की आग में

इस पुस्तक में एक गांव के अंदर उच्च जाति और निम्न जातियों के लोगों के बीच चल रहे संघर्ष की कहानी है। जिसमें निम्न जातियों के लोगों के साथ भेदभाव और छुआछूत का रवैया अपनाया जाता है। उच्च जाति के लोगों निम्न जाति के लोगों भर अत्याचार करते हैं। उन्हें पान

1 पाठक
2 लोगों ने खरीदा
2 अध्याय
9 जून 2022
अभी पढ़ें
27
ईबुक

महादेवी वर्मा  के प्रसिद्ध लेख

श्रीमती महादेवी वर्मा हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। उन्हें आधुनिक मीरा भी कहा गया है। महादेवी वर्मा जी हिंदी साहित्य में 1914 से 1938 तक छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती है। आधुनिक हिंदी की सबसे सशक्त कव

20 पाठक
20 अध्याय
24 जुलाई 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

पारस... छूते ही सोना कर दे

पाठकों को समर्पित शब्द गुच्छ...

3 पाठक
46 अध्याय
29 अक्टूबर 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

उन्मादिनी - सुभद्रा कुमारी चौहान  (कहानियों का संकलन)

सुभद्रा कुमारी चौहान जी का 'उन्मादिनी' दूसरा कहानी संग्रह है। यह कहानी संग्रह १९३४ में छपा। इस में उन्मादिनी, असमंजस, अभियुक्ता, सोने की कंठी, नारी हृदय, पवित्र ईर्ष्या, अंगूठी की खोज, चढ़ा दिमाग, व वेश्या की लड़की कुल ९ कहानियां हैं। इन सब कहानियों

3 पाठक
8 अध्याय
25 अप्रैल 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

मुहर्रम

मुहर्रम :(अरबी/उर्दू/फ़ारसी : محرم) इस्लामी वर्ष यानी हिजरी वर्ष का पहला महीना है। इस महीने में मुसलमान खास तौर पर शिया मुस्लिम पैगंबर मोहम्मद के नवासे इमाम हुसैन की शहादत का गम मनाते हैं. इमाम हुसैन कर्बला के मैदान में अपने साथियों के साथ शहीद हो गए

1 पाठक
1 अध्याय
28 जुलाई 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

मेरे लफ्ज कुछ कहते हैं (जनवरी-2023)

शब्द.इन द्वारा दिये गये विषयों पर मेरे विचारों का संगम इस पुस्तक के माध्यम से रचित किया जायेगा जो समाज में घटित वर्तमान, भविष्य और अतीत की घटनाओं को संदर्भित करके किया जायेगा। आप मेरे विचारों को पढ़कर समीक्षा करें और मुझे भविष्य में प्रेरित करें।

51 पाठक
25 अध्याय
31 जनवरी 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

अनुभव

ये पुस्तक मेरी कहानियों का प्रथम संग्रह है, जीवन;...मृत्यु; के बिच जो एक बहती हुई अनंत रेषा होती है इसके बारे मे भी ये कहानियां कुछ बोलती है। ये कोई मत, उपदेश, या किसी भी तरह का तत्वज्ञान नहीं ये सिर्फ बोलना है। कुछ पात्र आती हुई मुश्क़िलों का सामना

3 पाठक
13 अध्याय
28 अप्रैल 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

धरोहर (किस्सा संग्रह)

धरोहर एक किस्सा संग्रह है। पहले गांव में लाइट नहीं होती थी तो ढ़लते सूरज की छांव में ही भोजन कर लिया जाता था और अंधेरा होते होते सब सोने की तैयारी करने लगते थे तब शुरू होता था किस्सों का सिलसिला। उस समय यही मनोरंजन का साधन हुआ करते थे। किस्सों में उन

33 पाठक
3 लोगों ने खरीदा
6 अध्याय
23 जून 2022
अभी पढ़ें
40
ईबुक

फफूँद

समाज का चेहरा दिखाती कहानियों का तानाबाना

अभी पढ़ें
निःशुल्क

शतक में एक, मेरी कविता शाहीन बाग दिल्ली कुछ कहती है

सौ में एक मेरी कविता शाहीन बाग दिल्ली कुछ कहती है मेरा दूसरा कविता-संग्रह है. जिसमें 100 कविताएं ली गयी हैं. मेरा पहला कविता संग्रह 2019 में आधी-दुनिया प्रकाशित हो चुका है. कविता मेरे लिए एक फोटोग्राफी की तरह है-जिसमें हमारे आसपास जो घटित हो रहा है

6 पाठक
42 लोगों ने खरीदा
15 अध्याय
27 सितम्बर 2022
अभी पढ़ें
40
ईबुक
260
प्रिंट बुक

शब्द वाटिका

शब्दों को अर्थपूर्ण ढंग से सहेजना।उनकी बोल को लोगों तक पहुचाना।

37 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
50 अध्याय
10 अक्टूबर 2022
अभी पढ़ें
23
ईबुक

चोटी की पकड़

उनकी प्रायः हर कथा कृति का परिवेश सामाजिक यथार्थ से अनुप्राणित है। यही कारण है कि उनके कतिपय ऐतिहासिक पात्रों को भी हम एक सुस्पष्ट सामाजिक भूमिका में देखते हैं। चोटी की पकड़ यद्यपि ऐतिहासिक उपन्यास है, लेकिन इतिहास के खण्डहर इसमें पूरी तरह मौजूद हैं।

4 पाठक
39 अध्याय
5 अगस्त 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

गोदान

प्रेमचंद आधुनिक हिन्दी कहानी के पितामह और उपन्यास सम्राट माने जाते हैं। यों तो उनके साहित्यिक जीवन का आरंभ १९०१ से हो चुका था पर बीस वर्षों की इस अवधि में उनकी कहानियों के अनेक रंग देखने को मिलते हैं। गोदान एक शोषित किसान और ग्रामीण जीवन पर आधारित उन

60 पाठक
35 अध्याय
23 जुलाई 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

आप और हम जीवन के सच

आप और हम जीवन के इस भाग में हम अपनी कहानी जोकि कल्पना के तहत लिखी गई है परंतु हो सकता है कि आप सभी को इस जीवन के सच्चे शब्दों का कुछ अच्छा असर लगे और प्रेरणा मिले कि हम आज देख रहे हैं देश में लव जिहाद बलात्कार और युवा लड़कियों और लड़कों का प्रेम प्

1 पाठक
1 अध्याय
8 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

कंजक्टिवाइटिस

कंजक्टिवाइटिस (पिंक आईज) आंख की बाहरी झिल्ली और पलक के भीतरी हिस्से में सूजन या संक्रमण. कंजंक्टिवाइटिस या आंख आना, कंजक्टिवा नाम की आंख की परत की जलन या सूजन है, जो आंख की पुतली के सफेद हिस्से को प्रभावित करती है. यह एलर्जी या बैक्टीरिया या वा

1 पाठक
1 अध्याय
8 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

पाखी

पाखी क्या है इसके लिए आपको किताब पढ़नी होगी और ये किताब 1 अप्रैल से पहले पूर्ण रूप से प्रकाशित कर दी जाएगी

0 पाठक
0 अध्याय
14 मार्च 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

 नूतन काव्य प्रभा

मेरी इस किताब में समाजिक रचनाएं हैं

16 पाठक
36 अध्याय
18 सितम्बर 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए