shabd-logo

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 6

2 सितम्बर 2022

19 बार देखा गया 19


         अगले दिन मिस्टर सिकरवार दोपहर में पाठक जी के घर आ गये मानवी को अपने साथ ले जाने के लिए । मानवी मिस्टर सिकरवार को देखकर बहुत खुश हो गई । उसे शहर जाने कि इतनी जल्दी थी कि वो अपने भाई और माँ - बाबू जी से मिलना ही भुल गई थी । उसे नहीं पता था कि उसके साथ क्या होने वाला हैं , वो अपने आने वाली जिंदगी से बिल्कुल बेखबर थी ।
               वो भागी - भागी मिस्टर सिकरवार के पास आ रही थी उनसे मिलने , तो उसका पैर फिसल गया और वो गिरने ही वाली होती है कि मिस्टर सिकरवार उसे गिरने से बचा लेते है । उसे गिरते देख कर श्वेता जी डर गई और उनके मुंह से चिख निकल गई , क्योंकि वो अगर गिरती तो उसका मुंह सिद्धा दरवाजे से जा लगता और उसके बाद जो होता उसकी कल्पना मात्र से ही श्वेता जी सहम गई । 

        वो जल्दी से मानवी के पास आई और उससे पूछने लगी .... बेटा पैर में कही लगी तो नहीं हैं ना ... 
दिखाओं जरा हमें ... कहीं पैर में मोच - वोच तो नहीं आई है ना ... कभी भी आराम से नहीं चलती हो ... ना खुद चैन से रहती हो ना दुसरो को कभी चैन से रहने देती हो ।
              मानवी - नहीं माँ मै बिल्कुल ठीक हूँ देखों ... मुझे कहीं नहीं लगी है ।

              श्वेता जी -  कई बार कहा है कि धीरे चला करो ... हमेसा हवा में उड़ते रहती हो । अगर कुछ हो जाता तो ...

               श्वेता जी उसके लिए इस समय काभी परेशान हो रही थी । वो मानवी से  बोली -  अगर तू   शहर  जाकर वहां भी ऐसे ही गिरते - पड़ते रहोगी ... तो मिस्टर सिकरवार को बहुत परेशानी होगी .... समझी । अगर वहां तुम्हें  कुछ भी हो जायेगा .... तो मिस्टर सिकरवार अपने आप को दोषी समझेंगे , भगवान ना करे कि ऐसा कभी हो तुम्हारे साथ , जिससे वो अपने आप को कभी दोषी समझे ।  भगवान के लिए तुम वहां जरा सम्भल के ही रहना ।
                 मानवी - मेरी प्यारी माँ आप इतना परेशान क्यों हो रही हो , मै तो वहाँ बहुत अच्छे से रहूँगी , बिल्कुल एक अच्छी बच्ची की तरह  और हाँ ! मैं वहां किसी तंग भी नहीं करूंगी ।😊 बस अब आप परेशान होना छोड़ दो और एक प्यारी सी स्माइल दे दो मुझे । मानवी ने ये कहते हुए श्वेता जी का दोनों गालों को पकड़कर खिंच दिया ।          

                मानवी के ऐसे करने पर और उसकी बाते सुनकर श्वेता जी के चेहरे पर एक मुस्कुराहट तैर गयी ।
इन लोगों से थोड़े फासले पर बैठे पाठक जी माँ - बेटी के प्यार को देख रहे थे । वो भी मानवी को लेकर थोड़े परेशान थे इस समय और हो भी क्यों ना परेशान , उनकी मानवी  कितनी शांत स्वभाव की है यह उन से अच्छा कौन जान सकता है भला । लेकिन उनको मिस्टर सिकरवार पर भी बहुत भरोसा है , पाठक जी जानते है वो ( मिस्टर सिकरवार ) मानवी का बहुत अच्छा से ख्याल रखेंगे । पाठक जी ये बात बहुत अच्छे से जानते है कि उनकी बेटी वहां जाकर ( मिस्टर सिकरवार के घर ) बहुत खुश हो जायेगी । वो मानवी को अपने पास बुलाये और उससे कहें कि वहाँ जाकर अच्छे से रहना , किसी को भी परेशान मत करना और बिना काम के इधर - उधर मत घूमते फिरना ।

             मानवी - जी ठीक है बाबू जी .... आपको शिकायत का मौका  मैं बिल्कुल भी नहीं दूँगी और आप परेशान मत होइये मेरे लिए । अंकल तो होंगे ही मेरे साथ वहां , तो आपको मेरी चिंता करने  की कोई जरूरत नहीं हैं - - ठीक हैं बाबू जी .... ये कह कर मानवी अंदर अपने कमरे में चली गयी , , अपना समान दोबारा से चेक करने की कुछ छुट तो नहीं रहा है ।

           श्वेता जी .... पाठक जी और मिस्टर सिकरवार के लिए चाय लेकर  बालकनी में आ गई और वहीं बैठ कर चाय पीते हुए तीनों आपस में बातें करने लगें ।

             कुछ देर तक बात करने के बाद मिस्टर सिकरवार श्वेता जी से कहते है कि वो मानवी को बोल दे की अब यहाँ से निकलने का समय हो गया है । जितना
जल्दी निकलेंगे उतना अच्छा रहेगा ; क्योंकि हम कार से जा रहे है । 

           उनकी बात सुनकर पाठक जी उनसे पूछते कि आप अकेले कैसे इतनी दूर तक गाड़ी चला पायेंगे । ये ठीक नहीं है . . . आप ट्रेन से भी तो जा सकते है  ... इसमें खतरा भी बहुत हैं । 

           मिस्टर सिकरवार - अरे नहीं पाठक जी हमारे साथ हमारा ड्राइवर भी होगा ; कुछ दूर वो चलायेगा और कुछ दूर तक मैं चलाऊंगा । इससे ज्यादा थकावट भी नहीं होगी हमे और किसी खतरे का भी कोई डर नहीं होगा ।
पाठक जी जब ये सुने कि दो जन ड्राइव करेगे ; तब जाकर उनको कही चैन आया । 

         मानवी का भाई कार्तिक उसका सामान लेकर गाड़ी में रख दिया और तब मानवी के पास आकर उसका दोनों हाथ पकड़कर उसे चिढ़ाने के लिए बोला ।

         कार्तिक - चलो भाई कुछ दिनों के लिए तो ये घर - - घर लगेगा और इस घर में कुछ समय के लिए शांति भी रहेगी । इस घर की दिवारे भी चैन से रह पायेंगी ।        

          मानवी   कार्तिक के बातों से चिढ़ कर बोलती है - तू साफ - साफ ये क्यों नहीं कह रहे हो कि तुम्हें जलन हो रही है मेरे शहर जाने से । तो कार्तिक मानवी से कहता है ।
                 कार्तिक - नहीं मेरी प्यारी दिदु .... मुझे तो जलन - वलन नहीं हो रही हैं . . . बिल्कुल भी नहीं । मैंने ये सब इसलिए बोला क्योंकि आपके चले जाने पर इस घर की सारी चीजें एक जगह रहेगी और जो आप गुस्सा हो कर दिवारों को लात मारती हैं . . . वो भी कुछ दिन के लिए नहीं होगा । बेचारे दिवार का आप मार - मार के बुरा हाल कर देती हो । ये कहकर कार्त्तिक हँसने लगा । मानवी ये सुन कर पुरी तरह से चीढ गई थी लेकिन वो आज जाते - जाते कुछ भी ऐसा कांड नहीं करना चाहती थी , जिससे उसके माँ और बाबू जी को परेशानी हो ।

           मानवी बस कार्तिक को धमकी देकर रहने दी कि वो जब आयेगी वहाँ से ... तो उसके लिए कुछ भी नहीं लायेगी । ये सुनकर कार्तिक उससे बोलता है कि ठीक है - ठीक है पहले आप खुद अपने आप को वहाँ से सही सलामत लाइये । यहीं सबसे बड़ी बात होगी मेरे लिए ।😊😊
               मानवी चीढ़ कर उससे बोलती है - देख लो कार्तिक अब ज्यादा हो रहा हैं । मैं अब माँ और बाबू जी से बोल दूंगी की तू मुझे श्राप दे रहा है कि मुझे वहां कुछ हो जाए । अगर अब और कुछ बोला तो । तेरी जुबान आज बहुत चल रही है । भले ही मुझे माँ - बाबू जी और सब लोग शैतान बोलते है लेकिन प्यार भी मुझ से ही कहते है समझे । तू कितना भी अच्छा बनते हो या अच्छा हो , लेकिन प्यार तो मुझ ही से ज्यादा  करते है सारे लोग ।




क्रमश: -


33
रचनाएँ
इस कदर हमें तुमसे प्यार हो गया (नफरत बदला बेहद 💗प्यार में ... )
5.0
          यह कहानी एक गांव की लड़की की है ,जो बहुत ही चंचल स्वभाव की है  उसके पैर घर में बिल्कुल भी नहीं टिकते हैं । शहर क्या होता है यह मानवी नहीं जाती है ।      बच्चों में बच्ची बन जाती है ,तो कभी बड़ों में दादी मां की तरह बात करने लग जाती है ।  वह काफी समझदार भी है ,लेकिन उस की माँ उसको बुद्धू बोलती है ।      इस कहानी का उद्देश्य किसी के मान सम्मान को ठेस पहुंचाना नहीं है ,यह सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखा है हमने ।  
1

नफरत बदला बेहद प्यार में ...1

1 सितम्बर 2022
2
1
0

यह कहानी एक गांव की लड़की की है ,जो बहुत ही चंचल स्वभाव की है उसके पैर घर में बिल्कुल भी नहीं टिकते हैं । शहर क्या होता है यह मानवी नहीं जाती है

2

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 2

1 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी के बाबू जी गांव के सरपंच हैं तो वह अक्सर गांव में ही रहते हैं घर पर हो शाम को ही आते हैं ।वो अब अक्सर लोग उसे कहते हैं कि जरा हमें कोई अच्छा सा लड़क

3

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 3

1 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी ( मिस्टर सिकरवार से कहती है )-मैं कभी किसी दूसरे आदमी को बाबूजी बोलती हूं ,तो वह थोड़ा जलते हैं . . . थोड़े जलकुकडे हैं मेरे बाबू जी ... ये कह कर

4

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 4

1 सितम्बर 2022
0
1
0

श्वेता जी (मानवी से कहती हैं ) - यह तेरे घर की पूजा है , ना कि किसी और के घर की , जो तुम इतनी मटर गश्तीयाँ करते फिर रही हो ।😡 वह फिर मानवी से कहती हैं ,अब खड़े-खड़े मुंह क्य

5

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 5

1 सितम्बर 2022
0
1
0

( अगर मानवी बड़े घर की बेटी होती और शहर से होती , तो पता है उसके फ्रेंड्स क्या कहते आज उसे ऐसे लुक में देखकर - किलर लुक )😀😀

6

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 6

2 सितम्बर 2022
0
1
0

अगले दिन मिस्टर सिकरवार दोपहर में पाठक जी के घर आ गये मानवी को अपने साथ ले जाने के लिए । मानवी मिस्टर सिकरवार को देखकर बहुत खुश हो गई । उसे शहर जाने कि इतनी जल्दी थी

7

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 7

2 सितम्बर 2022
0
1
0

फाइनली आज मानवी का सपना पूरा होने वाला था । वह काफी खुश थी शहर जाने के लिए । थोडी देर बाद मानवी को लेकर मिस्टर सिकरवार बाहर आ गए और गाड़ी के तरफ चल

8

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 8

2 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी मिस्टर सिकरवार से बोलती है — अरे .... अरे ..... अंकल यह फर्श एकदम साफ है और वही मेरा सैंडल इसके आगे कितना गंदा लग रहा है और इसमें कितनी मिट्टी भी लगी हुई है । मै

9

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 9

4 सितम्बर 2022
0
1
0

काफी देर से चुप मानवी माधुरी जी की ये बात सुनकर तपाक से बोली — अरे अंकल मेरा भाई कार्तिक भी ऐसे ही कहता है माँ से कि बाबू जी मेरे से प्यार नहीं करते है सिर्फ मानवी दी से करते है । &n

10

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -10

13 सितम्बर 2022
0
0
0

मिस्टर सिकरवार की ऐसी बातें सुनकर वो शरमाते हुए अपने आस पास देख कर बोली — क्या आप भी ना ... कुछ भी बोल देते हो .... मैं क्यूं आपको भूलूंगी । &n

11

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -11

13 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मानवी को अनुभव का उससे ऐसे बात करने पर चिढ़ गई , क्योंकि आज से पहले उससे कोई ऐसे बात नहीं किया था । उसने गुस्से में आकार अनुभव के आंखों देखते हुए कहां

12

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -12

14 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव अपना दांत पीसते हुए , मानवी के तरफ अपने हाथ मे लिए हुए डंडे को उसके तरफ प्वाइंट करते हुए बोला — ओए ... सड़ी हुई दिमाग की गवार लड़की , तुम्हें अभी पता नहीं है , कि तुम अभी किसके

13

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 13

17 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव ने देखा कि मिस्टर सिकरवार उस पर ध्यान नहीं दिये है तो वो मौका का फैदा उठाया और वहां से नीकल गया । अब आगे क्योंकि ( अनुभव को ) उसे पता

14

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 14

18 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखावो सोच रही थी कि चोर भी मुझसे यही कह रहा था कि वो मुझे बिल्ली समझ कर अपने साथ डण्डा लेकर आया था और आंटी भी मुझे बिल्ली ही समझ रही थी ! उनके बोलने से तो ऐसा लग रहा कि

15

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 15

18 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखातुम्हारे आंख बंद कर के चलने के वजह से तुम्हें कई बार चोटे भी लगी है , कई बार तो तुम बड़ी - बड़ी गाडियों के सामने भी चले जाते थे । इसी वजह से मैं तुम पर हमेशा ग

16

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 16

19 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मिस्टर सिकरवार संध्या से — नहीं मैं वहीं आ रहा हूँ और ये कहकर वो अनुभव को घुरते हुए वहाँ से नीचे चले आये ।अब आगे

17

नफरत बदला बेहद 💗प्यार में ... 17

23 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा वो अपने आस - पास देखने लगी की वो जग कहा रख दी । उसे लगा कि वो अनुभव से अच्छे से लड़ाई करने के लिए , उसने जग कही रख दिया है । अब आगे &

18

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 18

14 अक्टूबर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मानवी अनुभव की लास्ट वाली बात से पूरी तरह से झन्ना गयी उसका मन किया कि वो अनुभव का गला दबा दे । वो अनुभव को पिछे से गुस्से में बोली — तुम हो छि

19

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 19

19 दिसम्बर 2022
0
1
0

अब तक आपने देखाअब मैं क्या करूं .... फिर अचानक उसके दिमाग में एक बात आई और वो मिस्टर सिकरवार के पास कॉल कर के अपनी बात कहीं । अब आगे मान

20

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 20

5 फरवरी 2023
1
1
0

अब तक आपने देखाइसे देखकर तो लग रहा है जैसे कि आप दो - तीन महीने के लिए जा रही हो वहां । अब आगे माधुरी जी हंसकर बोली - अरे बेटा ऐसी कोई बात नहीं है । मैं वहा

21

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 21

5 फरवरी 2023
3
1
0

अब तक आपने देखामिस्टर सिकरवार के तरफ मुडी और बोली 😊 — अच्छा तो अब चलिए ... कहीं देर ना हो जाए । अगर मैं वहां लेट पहुंची तो मुझे मेरी सहेली से बहुत कुछ सुनने को मिलेगा । अब आगे मि

22

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 22

12 फरवरी 2023
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव के आने का इंतजार करने लगी , क्योंकि मानवी को इतने बड़े घर में अकेले डर लग रहा था । अब आगे मानवी अनुभव के घर आने का इंतजार करने लगी । वो कभी घड़ी के तरफ देख रही थी

23

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 23

13 फरवरी 2023
0
1
0

अगर वो गेंडा ... भैसा अनुभव होगा तो यहां इतना अंधेरा देख कर दूर से ही गला फाड़ते हुए आयेगा । 😡🤨अब आगे अभी मानवी यहीं सोच रही थी कि उसे अनुभव के कदमों की आहट सु

24

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 24

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ावो कोई चुहा नहीं है जो तुम मुझसे तब से घूरे जा रही हो , उसे अपना आहार बनाने के लिए 😁 अनुभव ने गुलदस्ते के तरफ इशारा करके पूछा 😁 । अब आगे &nbs

25

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 25

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ावो अलबत्ता अनुभव के हाथों से आपना हाथ खिच ली और उसके तरफ एक नजर देख कर , उससे अपनी नजरे फेर ली और अपने आंखों को बंद करके , अपना सर दोनों से पकड़ कर बैठ गई । वो अभी भी

26

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 26

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ाअनुभव ने तुरंत उनकी बात सुनकर कहां — कोई नहीं आंटी । आप कल नहीं आना । जब वह ठीक हो जाए तभी आएगा | वैसे भी डैड कल आएंगे तो वो वहीं से नाश्ता करके आएंगे और हम अपने

27

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 27

26 अप्रैल 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ाकुछ देर बाद जब कॉफी बन गयी तो वो उसे लेकर हॉल में आ गया और मानवी के ठीक सामने बैठ गया और धीरे - धीरे कॉफी की शीप लेने लगा और मानवी के चेहरे को बड़े गौर से देखने

28

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 28

28 अप्रैल 2023
0
1
0

अब तक आपने पढ़ाअनुभव उसे शांत करने के लिए उसके बाल को सहलाने लगा । लेकिन फिर भी मानवी का डर और हाथ - पांव चलाना कम नहीं हुआ । अब आगेमानवी लगातार अपना हाथ - पाँव मार रही थी । अनुभव ने बहुत कोशिश क

29

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 29

3 मई 2023
1
0
1

अब तक आपने पढ़ा अनुभव जल्दी से उठा और हॉल के गेट के पास चला गया । वो नहीं चाह रहा था कि वॉचमैन मानवी को ऐसे देखे और हॉल में बिखरी हुई चीजों को भी । अब आगेवो वहां पहुंच कर वॉचम

30

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 30

9 मई 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा फिर उसके दिमाग में ये बात आयी कि कहीं ये अंकल से बचने के लिए तो नहीं कर रहा हैं ।अब आगेमानवी ये बात सिर्फ अपने मन में सोच कर रह गयी , अनुभव से बोली कुछ नहीं और चली

31

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 31

25 मई 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा डैड का कॉल आया था । उन्हें कल कहीं जाना है किसी काम से , तो वो कल शाम तक घर आयेंगे । ये सब कहते वक्त वो मानवी को बिल्कुल भी नहीं देख रहा था । अब आगे&nbsp

32

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 32

2 जून 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा दो तीन बार वो वैसे ही किया मगर वो ठीक नहीं हुआ , बल्की और भी ज्यादा दर्द करने लगा । अनुभव अपने गर्दन को टेढ़ा किये हुए अपने रूम चला गया फ्रेश होने । अब आगेअनुभव अपने रूम मे ज

33

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 33

23 जून 2023
2
0
0

अब तक आपने पढ़ा संध्या जी मुस्कुराते हुए बोली — हाँ बेटा जी वो अब ठीक है .... और मै कल से आऊंगी । आप को मेरे बीना परेशानी हुई इसके लिए माफ करना बेटा जी 🙂 और फोन करने के लिए आपका बहु

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए