shabd-logo

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 2

1 सितम्बर 2022

16 बार देखा गया 16

      
     मानवी के बाबू जी गांव के सरपंच हैं तो वह अक्सर गांव में ही रहते हैं घर पर हो शाम को ही आते हैं ।
वो अब अक्सर लोग उसे कहते हैं कि जरा हमें कोई अच्छा सा लड़का बता दीजिए 'हमारी लड़की के लिए ।हमें अब अपनी बिटिया की शादी करनी है ।
      तो लोग कहते हैं -अरे पाठक जी आप काहे चिंता कर रहे हैं । लड़के वाले तो खुद ब खुद आएंगे आपके बिटिया का हाथ मांगने , अपने बिटवा के खातिर । वह तो पार्वती मैया की परछाईं है परछाईं ।आप चिंता नहीं कीजिए अपनी बिटिया को लेकर ।
     पाठक जी ( यानी कि मानवी के बाबू जी । ) -अरे चिंता तो होगी ही ,आखिर वह हमारे घर की लाडली जो हैं ।  उसके लिए एक अच्छा सा वर ढूंढना है । जो उसे हमेशा खुश रखें ।
      समय बीत गया । इस बीच पाठक जी कई सारे लड़के को देखें । पर अपनी लड़की के लिए उन्हें कोई पसंद नहीं आ रहा था । आखिरी आये भी क्यो कोई पसंद उन्हें , उनकी लाडली के भाग्य में तो कुछ और ही लिखा हैं ।अब पंडित जी बहुत परेशान करने लगे है , क्योंकि जिसे भी वह देखने जाते हैं ,कभी कुंडली मैच नहीं होती ,तो कहीं लड़का ही पसंद नहीं आता है उन्हें और कहीं ये दोनों पसंद आ जाता ,तो परिवार ही अच्छा नहीं होता हैं ।

कुछ दिन बाद

आज पाठक जी के घर में पूजा हैं ।उनके घर इस पूजा में बहुत सारे लोग आए हुए हैं और आए भी क्यों ना , एक तो पंडित और दूसरे में अपनी यहाँ के सरपंच भी ,तो जाहीर है , लोग तो आएंगे ही ।
       काफी भीड़ है आज उनके घर अब भाई पाठक जी महामृत्युंजय जाप करवा रहे हैं , तो उनके घर उनके सगे - संबंधी तो आएंगे ही ।बहुत सारे पंडित जी आए हुए हैं पूजा कराने के लिए ।पूरा घर उनका औरतों और बच्चों से भरा हुआ है और उनका द्वार पुरुषों से भरा हुआ है । इसी पूजा में आज दिल्ली से मिस्टर राघवेन्द्र सिंह सिकरवार पाठक जी से मिलने आए हैं ,किसी काम से ...शायद कुछ दिखाने आए  हैं यहाँ वो आज ।

     दरअसल मिस्टर सिकरवार भी गांव के रहने वाले हैं जब वह बड़े हुए तो दिल्ली चले गए थे काम के सिलसिले मे। शुरूआत में तो वो दूसरे किसी की कंपनी में काम करते थे , पर अब वह खुद एक कंपनी के मालिक हैं ।

        मिस्टर सिकरवार बाहर बैठे सब से बात कर रहे थे , उन्ही में पाठक जी भी शामिल थे । तभी मानवी लगभग  दौड़ते हुए आती है पंडित जी के पास और उनसे कहती है . . .
       मानवी - बाबू जी चलिए मां बुला रही है आपको ।
    पाठक जी - (मुस्कुराते हुए कहते हैं )किस लिए बुला रही है ? जो तुम इतनी जल्दी में आई हो ।
    मानवी - वो बाबू जी पूजा के लिए जो सामान रखा जा रहा है ना , वह चल कर देख लीजिए एक बार , कहीं कुछ छूट - वूट तो नहीं गया है ।
     पाठक जी -अच्छा -अच्छा हम अभी चलते हैं , तो यह सुनकर मानवी जैसे पलटती है वापस जाने के लिए , तभी पाठक जी उसे रोकते हुए कहते हैं . . .
      पाठक जी - अरे  बिटिया पहले तुम इनसे मिलो ,यह बहुत ही दूर से आए हैं पाठक जी मिस्टर सिकरवार की तरफ इशारा करके कहते हैं । मानवी यह बात सुनकर अपने दोनों हाथों को  जोड़कर ,थोड़ा सा सर झुकाके उन्हें राधे - कृष्णा बोलती है ।
और वो ( मानवी ) अपनी छोटी - छोटी आंखें बड़ा करके देखते हुए कहती हैं , मतलब शहर से आए हैं ये ।इस समय उसके चेहरे पर , छोटे बच्चों के जैसे खुशी दिख रही थी ।जैसे छोटे बच्चों को उसके पसंद का खिलौना दिलाने पर वो होते है  ।
     पाठक जी -हां बिटिया वह भी दिल्ली शहर से आए हैं ये । (बाप - बेटी की बातें सुनकर मिस्टर सिकरवार मुस्कुरा रहे थे । )
तो पाठक जी से ये बात सुनकर मानवी मिस्टर सिकरवार से कहती हैं . . . .
     मानवी - वाह अंकल जी .. तब तो आपको बहुत  मजा आता होगा वहां पर । है ना ....
तो मिस्टर सिकरवार माने की बातें सुनकर कहते हैं -हां बेटा मजा तो आता है ,पर गांव जैसा मजा कहा आता है वहां ।पता है वहां हमेशा गाड़ियों की भाग -दौड़ लगी रहती है , बहुत शोर भी होता है , चारों तरफ प्रदूषण भी बहुत है वहां , देर रात को सोना और सुबह आठ बजे या नौ बजे उठना ...यही जिंदगी है शहर की ।ना किसी से अपनापन होता है और ना ही कोई अपना कहने वाला होता है वहां ।गांव तो बहुत अच्छा है शहर से ..
ये तो बहुत ही ज्यादा सुंदर स्वच्छ और शांत जगह होता है । यहां सब से सबको अपनापन होता है ,यहां सब अपने ही होते हैं ।
          इस बीच पाठक जी मानवी और मिस्टर सिकरवार को बातें करते देखकर , वह अंदर चले गए ।
मतलब वह जानते थे कि यह बात अब कुछ देर चलने वाली है ।कब भाई जहां मानवी हो ... वहां बातें ना हो .. यह तो हो ही नहीं सकता है ।😄😄
  इधर मानवी बातों ही बात में मिस्टर सिकरवार से कहती हैं । आपको पता है अंकल जी ।अगर आप गांव के होते ना , तो हम आपको काका कर कर बुलाते ,क्योंकि हमारे यहां तो बाबूजी के दोस्त या उनके उम्र के जो लोग  होते हैं ।तो उन्हें काका बोला जाता है । तो मिस्टर सिकरवार उसकी (मानवी की )यह बात सुनकर हंसे और बोले ..कोई बात नहीं बिटिया रानी आप हमें काका कहिए या बाबूजी ।मुझे कोई परेशानी नहीं है ।तो मिस्टर सिकरवार की यह बात सुनकर मानवी हंसते हुए कहते हैं ।
मानवी - नहीं नहीं अंकल जी ही सही है । अगर हम आपको बाबू जी बोलेंगे तो ..हमारे बाबूजी को लगेगा कि हम अब उन्हें अपना बाबूजी नहीं मानते हैं ।अरे बड़ी जलते हैं अगर हम किसी को बाबूजी करते हैं तो ।😄




क्रमशः .........✍🏻


33
रचनाएँ
इस कदर हमें तुमसे प्यार हो गया (नफरत बदला बेहद 💗प्यार में ... )
5.0
          यह कहानी एक गांव की लड़की की है ,जो बहुत ही चंचल स्वभाव की है  उसके पैर घर में बिल्कुल भी नहीं टिकते हैं । शहर क्या होता है यह मानवी नहीं जाती है ।      बच्चों में बच्ची बन जाती है ,तो कभी बड़ों में दादी मां की तरह बात करने लग जाती है ।  वह काफी समझदार भी है ,लेकिन उस की माँ उसको बुद्धू बोलती है ।      इस कहानी का उद्देश्य किसी के मान सम्मान को ठेस पहुंचाना नहीं है ,यह सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखा है हमने ।  
1

नफरत बदला बेहद प्यार में ...1

1 सितम्बर 2022
2
1
0

यह कहानी एक गांव की लड़की की है ,जो बहुत ही चंचल स्वभाव की है उसके पैर घर में बिल्कुल भी नहीं टिकते हैं । शहर क्या होता है यह मानवी नहीं जाती है

2

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 2

1 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी के बाबू जी गांव के सरपंच हैं तो वह अक्सर गांव में ही रहते हैं घर पर हो शाम को ही आते हैं ।वो अब अक्सर लोग उसे कहते हैं कि जरा हमें कोई अच्छा सा लड़क

3

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 3

1 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी ( मिस्टर सिकरवार से कहती है )-मैं कभी किसी दूसरे आदमी को बाबूजी बोलती हूं ,तो वह थोड़ा जलते हैं . . . थोड़े जलकुकडे हैं मेरे बाबू जी ... ये कह कर

4

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 4

1 सितम्बर 2022
0
1
0

श्वेता जी (मानवी से कहती हैं ) - यह तेरे घर की पूजा है , ना कि किसी और के घर की , जो तुम इतनी मटर गश्तीयाँ करते फिर रही हो ।😡 वह फिर मानवी से कहती हैं ,अब खड़े-खड़े मुंह क्य

5

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 5

1 सितम्बर 2022
0
1
0

( अगर मानवी बड़े घर की बेटी होती और शहर से होती , तो पता है उसके फ्रेंड्स क्या कहते आज उसे ऐसे लुक में देखकर - किलर लुक )😀😀

6

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 6

2 सितम्बर 2022
0
1
0

अगले दिन मिस्टर सिकरवार दोपहर में पाठक जी के घर आ गये मानवी को अपने साथ ले जाने के लिए । मानवी मिस्टर सिकरवार को देखकर बहुत खुश हो गई । उसे शहर जाने कि इतनी जल्दी थी

7

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 7

2 सितम्बर 2022
0
1
0

फाइनली आज मानवी का सपना पूरा होने वाला था । वह काफी खुश थी शहर जाने के लिए । थोडी देर बाद मानवी को लेकर मिस्टर सिकरवार बाहर आ गए और गाड़ी के तरफ चल

8

नफरत बदला बेहद प्यार में ...— 8

2 सितम्बर 2022
0
1
0

मानवी मिस्टर सिकरवार से बोलती है — अरे .... अरे ..... अंकल यह फर्श एकदम साफ है और वही मेरा सैंडल इसके आगे कितना गंदा लग रहा है और इसमें कितनी मिट्टी भी लगी हुई है । मै

9

नफरत बदला बेहद प्यार में ... 9

4 सितम्बर 2022
0
1
0

काफी देर से चुप मानवी माधुरी जी की ये बात सुनकर तपाक से बोली — अरे अंकल मेरा भाई कार्तिक भी ऐसे ही कहता है माँ से कि बाबू जी मेरे से प्यार नहीं करते है सिर्फ मानवी दी से करते है । &n

10

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -10

13 सितम्बर 2022
0
0
0

मिस्टर सिकरवार की ऐसी बातें सुनकर वो शरमाते हुए अपने आस पास देख कर बोली — क्या आप भी ना ... कुछ भी बोल देते हो .... मैं क्यूं आपको भूलूंगी । &n

11

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -11

13 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मानवी को अनुभव का उससे ऐसे बात करने पर चिढ़ गई , क्योंकि आज से पहले उससे कोई ऐसे बात नहीं किया था । उसने गुस्से में आकार अनुभव के आंखों देखते हुए कहां

12

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग -12

14 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव अपना दांत पीसते हुए , मानवी के तरफ अपने हाथ मे लिए हुए डंडे को उसके तरफ प्वाइंट करते हुए बोला — ओए ... सड़ी हुई दिमाग की गवार लड़की , तुम्हें अभी पता नहीं है , कि तुम अभी किसके

13

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 13

17 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव ने देखा कि मिस्टर सिकरवार उस पर ध्यान नहीं दिये है तो वो मौका का फैदा उठाया और वहां से नीकल गया । अब आगे क्योंकि ( अनुभव को ) उसे पता

14

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 14

18 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखावो सोच रही थी कि चोर भी मुझसे यही कह रहा था कि वो मुझे बिल्ली समझ कर अपने साथ डण्डा लेकर आया था और आंटी भी मुझे बिल्ली ही समझ रही थी ! उनके बोलने से तो ऐसा लग रहा कि

15

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 15

18 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखातुम्हारे आंख बंद कर के चलने के वजह से तुम्हें कई बार चोटे भी लगी है , कई बार तो तुम बड़ी - बड़ी गाडियों के सामने भी चले जाते थे । इसी वजह से मैं तुम पर हमेशा ग

16

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 16

19 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मिस्टर सिकरवार संध्या से — नहीं मैं वहीं आ रहा हूँ और ये कहकर वो अनुभव को घुरते हुए वहाँ से नीचे चले आये ।अब आगे

17

नफरत बदला बेहद 💗प्यार में ... 17

23 सितम्बर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा वो अपने आस - पास देखने लगी की वो जग कहा रख दी । उसे लगा कि वो अनुभव से अच्छे से लड़ाई करने के लिए , उसने जग कही रख दिया है । अब आगे &

18

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 18

14 अक्टूबर 2022
0
0
0

अब तक आपने देखा मानवी अनुभव की लास्ट वाली बात से पूरी तरह से झन्ना गयी उसका मन किया कि वो अनुभव का गला दबा दे । वो अनुभव को पिछे से गुस्से में बोली — तुम हो छि

19

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 19

19 दिसम्बर 2022
0
1
0

अब तक आपने देखाअब मैं क्या करूं .... फिर अचानक उसके दिमाग में एक बात आई और वो मिस्टर सिकरवार के पास कॉल कर के अपनी बात कहीं । अब आगे मान

20

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 20

5 फरवरी 2023
1
1
0

अब तक आपने देखाइसे देखकर तो लग रहा है जैसे कि आप दो - तीन महीने के लिए जा रही हो वहां । अब आगे माधुरी जी हंसकर बोली - अरे बेटा ऐसी कोई बात नहीं है । मैं वहा

21

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 21

5 फरवरी 2023
3
1
0

अब तक आपने देखामिस्टर सिकरवार के तरफ मुडी और बोली 😊 — अच्छा तो अब चलिए ... कहीं देर ना हो जाए । अगर मैं वहां लेट पहुंची तो मुझे मेरी सहेली से बहुत कुछ सुनने को मिलेगा । अब आगे मि

22

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 22

12 फरवरी 2023
0
0
0

अब तक आपने देखाअनुभव के आने का इंतजार करने लगी , क्योंकि मानवी को इतने बड़े घर में अकेले डर लग रहा था । अब आगे मानवी अनुभव के घर आने का इंतजार करने लगी । वो कभी घड़ी के तरफ देख रही थी

23

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 23

13 फरवरी 2023
0
1
0

अगर वो गेंडा ... भैसा अनुभव होगा तो यहां इतना अंधेरा देख कर दूर से ही गला फाड़ते हुए आयेगा । 😡🤨अब आगे अभी मानवी यहीं सोच रही थी कि उसे अनुभव के कदमों की आहट सु

24

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 24

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ावो कोई चुहा नहीं है जो तुम मुझसे तब से घूरे जा रही हो , उसे अपना आहार बनाने के लिए 😁 अनुभव ने गुलदस्ते के तरफ इशारा करके पूछा 😁 । अब आगे &nbs

25

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 25

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ावो अलबत्ता अनुभव के हाथों से आपना हाथ खिच ली और उसके तरफ एक नजर देख कर , उससे अपनी नजरे फेर ली और अपने आंखों को बंद करके , अपना सर दोनों से पकड़ कर बैठ गई । वो अभी भी

26

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 26

10 मार्च 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ाअनुभव ने तुरंत उनकी बात सुनकर कहां — कोई नहीं आंटी । आप कल नहीं आना । जब वह ठीक हो जाए तभी आएगा | वैसे भी डैड कल आएंगे तो वो वहीं से नाश्ता करके आएंगे और हम अपने

27

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 27

26 अप्रैल 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ाकुछ देर बाद जब कॉफी बन गयी तो वो उसे लेकर हॉल में आ गया और मानवी के ठीक सामने बैठ गया और धीरे - धीरे कॉफी की शीप लेने लगा और मानवी के चेहरे को बड़े गौर से देखने

28

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 28

28 अप्रैल 2023
0
1
0

अब तक आपने पढ़ाअनुभव उसे शांत करने के लिए उसके बाल को सहलाने लगा । लेकिन फिर भी मानवी का डर और हाथ - पांव चलाना कम नहीं हुआ । अब आगेमानवी लगातार अपना हाथ - पाँव मार रही थी । अनुभव ने बहुत कोशिश क

29

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 29

3 मई 2023
1
0
1

अब तक आपने पढ़ा अनुभव जल्दी से उठा और हॉल के गेट के पास चला गया । वो नहीं चाह रहा था कि वॉचमैन मानवी को ऐसे देखे और हॉल में बिखरी हुई चीजों को भी । अब आगेवो वहां पहुंच कर वॉचम

30

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 30

9 मई 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा फिर उसके दिमाग में ये बात आयी कि कहीं ये अंकल से बचने के लिए तो नहीं कर रहा हैं ।अब आगेमानवी ये बात सिर्फ अपने मन में सोच कर रह गयी , अनुभव से बोली कुछ नहीं और चली

31

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 31

25 मई 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा डैड का कॉल आया था । उन्हें कल कहीं जाना है किसी काम से , तो वो कल शाम तक घर आयेंगे । ये सब कहते वक्त वो मानवी को बिल्कुल भी नहीं देख रहा था । अब आगे&nbsp

32

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 32

2 जून 2023
0
0
0

अब तक आपने पढ़ा दो तीन बार वो वैसे ही किया मगर वो ठीक नहीं हुआ , बल्की और भी ज्यादा दर्द करने लगा । अनुभव अपने गर्दन को टेढ़ा किये हुए अपने रूम चला गया फ्रेश होने । अब आगेअनुभव अपने रूम मे ज

33

नफरत बदला बेहद💗 प्यार में ....भाग - 33

23 जून 2023
2
0
0

अब तक आपने पढ़ा संध्या जी मुस्कुराते हुए बोली — हाँ बेटा जी वो अब ठीक है .... और मै कल से आऊंगी । आप को मेरे बीना परेशानी हुई इसके लिए माफ करना बेटा जी 🙂 और फोन करने के लिए आपका बहु

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए