shabd-logo

अध्याय 6: मगनलाल खुशालचंद गांधी

15 अगस्त 2023

13 बार देखा गया 13

मेरे चाचा के पोते मगनलाल खुशालचंद गांधी मेरे कामों मे मेरे साथ सन् १९०४ से ही थे । मगनलाल के पिता ने अपने सभी पुत्रो को देश के काम में दे दिया है। वह इस महीने के शुरू में सेठ जमनालालजी तथा दूसरे मित्रो के साथ बगाल गये थे, वहा

बिहार आये । वही पर अपने कर्त्तव्य के पालन मे ही उन्हें कठिन ज्वर हो आया। नौ दिन की बीमारी के बाद प्रेम और डाक्टरी ज्ञान से जितनी सेवा सभव है, सभी कुछ होने पर भी वह बृज़- किशोर प्रसादजी की गोद मे से चले गये ।

कुछ धन कमा सकने की आशा से मगनलाल गाधी मेरे साथ सन् १९०३ मे दक्षिण अफ्रीका गये थे। मगर उन्हें दूकान करते पूरा साल भर भी न हुआ होगा कि स्वेच्छापूर्वक गरीबी की मेरी अचानक पुकार को सुनकर वह फिनिक्स आश्रम मे आ शामिल हुए और तब से एक बार भी वह डिगे नही, मेरी आशाए पूरी करने मे असमर्थ न हुए। यदि उन्होने स्वदेश सेवा मे अपनेको होम दिया तो अपनी योग्यताओं और अपने अध्यवसाय के बल पर, जिनके बारे मे कोई सदेह हो ही नही सकता, वे आज व्यापारियों के सिरताज होते । छापाखाने मे डाल दिये जाने पर उन्होने तुरत

मुद्रा के सभी भेदो को जान लिया । यद्यपि पहले उन्होने कभी कोई यत्र हाथ मे नही लिया था तो भी इजिन घर में, कलो के बीच तथा कंपोजीटरों के टेबल पर सभी जगह अत्यत कुशलता दिखाई । 'इंडियन ओपीनियन' के गुजराती अश का संपादन करना भी उनके लिए वैसा ही सहज काम था। फिनिक्स- आश्रम में खेती का काम भी शामिल था और इसलिए वह कुशल किसान भी बन गये। मेरा खयाल है कि आश्रम मे वे सर्वो- त्तम बागबान थे । यह भी उल्लेखनीय है कि अहमदाबाद से 'यग इंडिया' का जो पहला अंक निकला उसमे भी उस सकट - काल मे उनके हाथ की कारीगरी थी ।

पहले उनका शरीर भीम जैसा था, किंतु जिस काम में उन्होने अपने को उत्सर्ग किया, उसकी उन्नति में उस शरीर को गला दिया था। उन्होने बड़ी सावधानी से मेरे आध्यात्मिक जीवन का अध्ययन किया था। जबकि मैंने विवाहित स्त्री-पुरुषो के लिए भी 'ब्रह्मचर्य ही जीवन का नियम है' का सिद्धात अपने सहकारियो के सामने पेश किया था तब उन्होने पहले-पहल उसका सौदर्य तथा उसके पालन की आवश्यकता समझी और यद्यपि उसके लिए, जैसाकि मै जानता हू, उन्हे बडा कठोर प्रयत्न करना पडा था तो भी उन्होने इसे सफल कर दिखलाया । इसमे वह अपने साथ अपनी धर्मपत्नी hat भी धीरतापूर्वक समझा-बुझाकर ले गये, उसपर अपने विचार जबरन डालकर नही ।

जब सत्याग्रह का जन्म हुआ तब वह सबसे आगे थे । दक्षिण अफ्रीका के युद्ध का पूरा-पूरा मतलब समझानेवाला एक शब्द में ढूंढ रहा था। दूसरा कोई अच्छा शब्द न मिल सकने से मैने लाचार उसे निष्क्रिय प्रतिरोध का नाम दिया था, गोकि यह शब्द बहुत हीं नाकाफी और भ्रमोत्पादक भी है। क्या ही अच्छा होता अगर आज मेरे पास उनका वह अत्यत सुदर पत्र होता जिसमे उन्होने बत- या था कि इस युद्ध को 'सदाग्रह' क्यो कहना चाहिए। इसी सदा- ग्रह को बदलकर मैंने 'सत्याग्रह' शब्द बनाया । उनका पत्र पढने पर इस युद्ध के सभी सिद्धातों पर एक-एक करके विचार करते हुए अत में पाठक को इसी नाम पर आना ही पडता था । मुझे याद है कि वह पत्र अत्यत ही छोटा और केवल आवश्यक विषय पर ही था, जैसे कि उनके सभी पत्र होते थे ।

युद्ध के समय वह काम से कभी थके नही, किसी काम से देह नही चुराई और अपनी वीरता से वह अपने आसपास में सभी किसीके दिल उत्साह और आशा से भर देते थे। जबकि सब कोई जेल गये, जब फिनिक्स मे जेल जाना ही मानो इनाम जीतना था तब भी, मेरी आज्ञा से, जेल से भारी काम उठाने के लिए वह पीछे ठहर गये । उन्होने स्त्रियो के दल मे अपनी पत्नी को भेजा ।

हिदुस्तान लौटने पर भी उन्हीकी बदौलत आश्रम, जिस सयम-नियम की बुनियाद पर बना है, खुल सका था। यहां उन्हे नया और अधिक मुश्किल काम करना पडा । मगर उन्होने अपने- को उसके लायक साबित किया । उनके लिए अस्पृश्यता बहुत कठिन परीक्षा थी । सिर्फ एक क्षण के लिए ऐसा जान पडा, मानो उनका दिल डोल गया हो। मगर यह तो एक सैकड़ की बात थी। उन्होने देख लिया कि प्रेम की सीमा नही बाधी जा सकती, और कुछ नही तो महज इसीलिए कि अछूतो के लिए ऊची जाति- वाले जिम्मेदार है, हमे उन्हीके जैसे रहना चाहिए ।

आश्रम का औद्योगिक विभाग फिनिक्स के ही कारखाने के ढग का नही था । यहा हमे बुनना, कातना, धुनना और ओटना सीखना था। फिर मगनलाल की ओर झुका । गोकि कल्पना मेरी थी, कितु उसे काम मे लानेवाले हाथ तो उनके थे । उन्होने बुनना . और कपास के खादी बनने तक की और दूसरी सभी क्रियाए सखी । वह तो जन्म से ही विश्वकर्मा, कुशल कारीगर थे ।

जब आश्रम मे गोशाला का काम शुरू हुआ तब वह इस काम मे उत्साह से लग गये, गोशाला - सबधी साहित्य पढा और आश्रम की सभी गायो का नामकरण किया और सभी गोरुओ से मित्रता पैदा कर ली । जब चमांलय खुला तब भी वह वैसे ही दृढ थे। जरा दम लेने की फुर्सत मिलते ही वह चमड़े के सिद्धान्त भी सीखनेवाले थे । राजकोट के हाई स्कूल की शिक्षा के अलावा और जो कुछ वह इतनी अच्छी तरह जानते थे, उन्होने वह सब स्वानुभव की कठिन पाठ- शाला मे सीखा था । उन्होने देहाती बढई, देहाती बुनकर, किसान, चरवाहो और ऐसे ही मामूली लोगो से सीखा था ।

वह चर्खा संघ के शिक्षण विभाग के व्यवस्थापक थे । श्री वल्लभ भाई ने बाढ़ के जमाने मे उन्हे विट्ठलपुर का नया गाव बनाने IT भार दिया था ।

वह आदर्श पिता थे । उन्होने अपने बच्चो को दो लडकियो और एक लडके को, ऐसी शिक्षा दी थी कि जिसमे वे देश के लिए उपहार बनने के लिए योग्य हो । उनका पुत्र केशव यत्र- विद्या मे बडी कुशलता दिखला रहा है। उसने भी अपने पिता केही समान यह सब मामूली लुहार - बढइयो को काम करते देखकर सीखा है। उनकी सबसे बड़ी लडकी राधा ने अपने मत्थे बिहार में स्त्रियो की स्वाधीनता के संबध मे एक मुश्किल और नाजुक काम उठाया था । सच ही तो, वह यह पूरा-पूरा जानते थे कि राष्ट्रीय शिक्षा कैसी होनी चाहिए और वह शिक्षको को प्रायः इस विषय पर गभीर और विचारपूर्वक चर्चा मे लगाया करते थे ।

पाठक यह न समझे कि उन्हें राजनीति का कुछ ज्ञान ही नही था । उन्हे ज्ञान जरूर था; कितु उन्होने आत्मत्याग का रचनात्मक और शात पथ चुना था ।

वह मेरे हाथ थे, मेरे पैर थे और थे मेरी आंखे । दुनिया को क्या पता कि मै जो इतना बडा आदमी कहा जाता हूं, वह बडप्पन मेरे शांत, श्रद्धालु, योग्य और पवित्र स्त्री तथा पुरुष कार्यकर्त्ताओं के अविरल परिश्रम और सेवा पर कितना निर्भर है, और उन सबमे मेरे लिए मगनलाल सबसे बड़े, सबसे अच्छे और सबसे अधिक पवित्र थे ।

यह लेख लिखते हुए भी अपने प्यारे पति के लिए विलाप करती हुई उनकी विधवा की सिसक में सुन रहा हूं। मगर वह क्या समझेगी कि उससे अधिक विधवा, अनाथ में ही हो गया हू । अगर ईश्वर में मेरा जीवत विश्वास न होता तो उसकी मृत्यु पर, जोकि मुझे अपने सगे पुत्रो से भी अधिक प्रिय था, जिसने मुझे कभी धोखा न दिया, मेरी आशाए न तोडी, जो अध्यवसाय की मूर्ति था, जो आश्रम के भौतिक, नैतिक और आध्यात्मिक सभी अगो का सच्चा चौकीदार था, मैं विक्षिप्त हो जाता। उनका जीवन मेरे लिए उत्साहदायक है, नैतिक नियम की अमोघता और उच्चता का प्रत्यक्ष प्रदर्शन है। उन्होने अपने ही जीवन मे मुझे एक-दो दिनों में नही, कुछ महीनो में नही, बल्कि पूरे चौबीस वर्षों तक की बड़ी अवधि में - हाय, जोअब घडी भर का समय जान पडता है—यह साबित कर दिखलाया कि देश सेवा और मनुष्य सेवा, आत्म- ज्ञान या ब्रह्मज्ञान आदि सभी शब्द एक ही अर्थ के द्योतक है ।मगनलाल न रहे, मगर अपने सभी कामों में वह जीवित है, जिनकी छाप, आश्रम की धूल मे से दौड़कर निकल जानेवाले भी, देख सकते है । "

...

...

उनके जैसा सरदार अगर मुझे मिला होता तो उन्होने जितनी मेरी सेवा की थी, उतनी में अपने सरदार की नही कर सकता । उनका जीवन सपूर्ण था। आश्रम के वह प्राण थे। मै तो केवल घूमता फिरा और आश्रम के प्रति बेवफा रहा । उन्होने आश्रम की सेवा में अपना शरीर गला दिया था । मै मीराबाई के समान जहर का प्याला पी सकता हू, मेरे गले मे कोई सांपों की माला डाल दे तो उसे सहन कर सकता हू, किंतु यह वियोग उन दोनो से भी अधिक कठिन है । तो भी छाती कठिन करके, उनका गुण- कीर्तन करते हुए मैने अपने हृदय में उनकी मूर्ति स्थापित की है।

...

रूखी बहन बिल्कुल बच्ची थी, तब से सतोक ४ के जीते- जी भी मगनलाल के हाथों पली थी। इसके जीने की शायद ही आशा थी । मुश्किल से सास ले सकती थी । इस लड़की को मगन- लाल नहलाते, बाल सवारते और पास बैठाकर खिलाते थे और अपने दूसरे बच्चो की भी देखभाल करते थे । फिर भी नौकरी में सबसे ज्यादा काम करते थे । सुदर से - सुदर बाडी उन्होने बनाई थी । फिनिक्स मे पहला गुलाब का फूल उन्हीने उगाया था । फिनिक्स की कितनी ही सख्त जमीन मे जब उनकी कुदाली की चोट पडती थी तब धरती कापती मालूम होती थी ।

मगनलाल में आत्म-विश्वास था । अपने काम के बारे में श्रद्धा थी । और भगवान् ने उन्हें बलवान शरीर दिया था । यह शरीर अत मे आश्रम के बोझ से और उनकी तपश्चर्या से कमजोर हो गया था । "

...

उन्होने आश्रम के लिए जन्म लिया था। सोना जैसे अग्नि में तपता है वैसे मगनलाल सेवाग्नि में तपे और कसौटी पर सो फी- सदी खरे उतरकर दुनिया से कूच कर गये । आश्रम मे जो कोई भी है वह मगनलाल की सेवा की गवाही देता है ।"

--

27
रचनाएँ
देश सेवकों के संस्मरण
0.0
देश सेवकों के संस्कार कई भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन और कार्य के बारे में निबंधों का एक संग्रह है। निबंध स्वतंत्रता सेनानियों के साथ प्रभाकर की व्यक्तिगत बातचीत और उनके जीवन और कार्य पर उनके शोध पर आधारित हैं। देश सेवकों के संस्कार में निबंधों को कालानुक्रमिक रूप से व्यवस्थित किया गया है, जो भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के शुरुआती दिनों से शुरू होकर महात्मा गांधी की हत्या तक समाप्त होता है। निबंधों में असहयोग आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन और नमक सत्याग्रह सहित कई विषयों को शामिल किया गया है। देश सेवकों के संस्कार में प्रत्येक निबंध भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन पर एक अद्वितीय और व्यक्तिगत दृष्टिकोण प्रदान करता है। प्रभाकर के निबंध केवल ऐतिहासिक वृत्तांत नहीं हैं, बल्कि साहित्य की कृतियाँ भी हैं जो उस समय की भावना और स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए बलिदानों को दर्शाती हैं। देश सेवकों के संस्कार भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन पर साहित्य में एक महत्वपूर्ण और मूल्यवान रचना है।
1

अध्याय 1: हकीम अजमल खां

15 अगस्त 2023
10
1
0

एक जमाना था, शायद सन् ' १५ की साल में, जब मै दिल्ली आया था, हकीम अजमल खां साहब से मिला और डाक्टर अंसारी से | मुझसे कहा गया कि हमारे दिल्ली के बादशाह अंग्रेज नही है, बल्कि ये हकीम साहब है । डाक्टर असार

2

अध्याय 2: डा० मुख्तार अहमद अंसारी

15 अगस्त 2023
5
0
0

डा० असारी जितने अच्छे मुसलमान है, उतने ही अच्छे भारतीय भी है । उनमे धर्मोन्माद की तो किसीने शंका ही नही की है। वर्षों तक वह एक साथ महासभा के सहमंत्री रहे है। एकता के लिए किये गये उनके प्रयत्नो को तो

3

अध्याय 3: बी अम्मा

15 अगस्त 2023
3
0
0

यह मानना मश्किल है कि बी अम्मा का देहात हो गया है। अम्मा की उस राजसी मूर्ति को या सार्वजनिक सभाओं में उन- की बुलंद आवाज को कौन नही जानता । बुढापा होते हुए भी उन- में एक नवयुवक की शक्ति थी । खिलाफत और

4

अध्याय 4: धर्मानंद कौसंबी

15 अगस्त 2023
2
0
0

शायद आपने उनका नाम नही सुना होगा । इसलिए शायद आप दुख मानना नही चाहेगे । वैसे किसी मृत्यु पर हमे दुख मानना चाहिए भी नही, लेकिन इसान का स्वभाव है कि वह अपने स्नेही या पूज्य के मरने पर दुख मानता ही है।

5

अध्याय 5: कस्तूरबा गांधी

15 अगस्त 2023
3
1
1

तेरह वर्ष की उम्र मे मेरा विवाह हो गया। दो मासूम बच्चे अनजाने ससार-सागर में कूद पडे। हम दोनो एक-दूसरे से डरते थे, ऐसा खयाल आता है। एक-दूसरे से शरमाते तो थे ही । धीरे-धीरे हम एक-दूसरे को पहचानने लगे।

6

अध्याय 6: मगनलाल खुशालचंद गांधी

15 अगस्त 2023
2
0
0

मेरे चाचा के पोते मगनलाल खुशालचंद गांधी मेरे कामों मे मेरे साथ सन् १९०४ से ही थे । मगनलाल के पिता ने अपने सभी पुत्रो को देश के काम में दे दिया है। वह इस महीने के शुरू में सेठ जमनालालजी तथा दूसरे मित

7

अध्याय 7: गोपालकृष्ण गोखले

15 अगस्त 2023
2
0
0

गुरु के विषय मे शिष्य क्या लिखे । उसका लिखना एक प्रकार की धृष्टता मात्र है। सच्चा शिष्य वही है जो गुरु मे अपने- को लीन कर दे, अर्थात् वह टीकाकार हो ही नही सकता । जो भक्ति दोष देखती हो वह सच्ची भक्ति

8

अध्याय 8: घोषालबाबू

15 अगस्त 2023
2
0
0

ग्रेस के अधिवेशन को एक-दो दिन की देर थी । मैने निश्चय किया था कि काग्रेस के दफ्तर में यदि मेरी सेवा स्वीकार हो तो कुछ सेवा करके अनुभव प्राप्त करू । जिस दिन हम आये उसी दिन नहा-धोकर मै काग्रेस के दफ्तर

9

अध्याय 9: अमृतलाल वि० ठक्कर

15 अगस्त 2023
1
0
0

ठक्करबापा आगामी २७ नवबर को ७० वर्ष के हो जायगे । बापा हरिजनो के पिता है और आदिवासियो और उन सबके भी, जो लगभग हरिजनो की ही कोटि के है और जिनकी गणना अर्द्ध- सभ्य जातियों में की जाती है। दिल्ली के हरिजन

10

अध्याय 10: द्रनाथ ठाकुर

15 अगस्त 2023
1
0
0

लार्ड हार्डिज ने डाक्टर रवीद्रनाथ ठाकुर को एशिया के महाकवि की पदवी दी थी, पर अब रवीद्रबाबू न सिर्फ एशिया के बल्कि ससार भर के महाकवि गिने जा रहे है । उनके हाथ से भारतवर्ष की सबसे बडी सेवा यह हुई है कि

11

अध्याय 11: लोकमान्य तिलक

16 अगस्त 2023
1
0
0

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक अब ससार मे नही है । यह विश्वास करना कठिन मालूम होता है कि वह ससार से उठ गये । हम लोगो के समय मे ऐसा दूसरा कोई नही, जिसका जनता पर लोकमान्य के जैसा प्रभाव हो । हजारो देशवासियो क

12

अध्याय 12: अब्बास तैयबजी

16 अगस्त 2023
0
0
0

सबसे पहले सन् १९१५ मे मै अब्बास तैयबजी से मिला था । जहा की मै गया, तैयबजी - परिवार का कोई-न-कोई स्त्री-पुरुष मुझसे आकर जरूर मिला । ऐसा मालूम पडता है, मानो इस महान् और चारो तरफ फैले हुए परिवार ने यह

13

अध्याय 13: देशबंधु चित्तरंजन दास

16 अगस्त 2023
0
0
0

देशबंधु दास एक महान् पुरुष थे। मैं गत छ वर्षो से उन्हें जानता हू । कुछ ही दिन पहले जब में दार्जिलिंग से उनसे विदा हुआ था तब मैने एक मित्र से कहा था कि जितनी ही घनिष्ठता उनसे बढती है उतना ही उनके प्र

14

अध्याय 14: महादेव देसाई

16 अगस्त 2023
0
0
0

महादेव की अकस्मात् मृत्यु हो गई । पहले जरा भी पता नही चला। रात अच्छी तरह सोये । नाश्ता किया। मेरे साथ टहले । सुशीला ' और जेल के डाक्टरो ने, जो कुछ कर सकते थे, किया लेकिन ईश्वर की मर्जी कुछ और थी ।

15

अध्याय 15: सरोजिनी नायडू

16 अगस्त 2023
0
0
0

सरोजिनी देवी आगामी वर्ष के लिए महासभा की सभा - नेत्री निर्वाचित हो गई । यह सम्मान उनको पिछले वर्ष ही दिया जानेवाला था । बडी योग्यता द्वारा उन्होने यह सम्मान प्राप्त किया है । उनकी असीम शक्ति के लिए और

16

अध्याय 16: मोतीलाल नेहरू

16 अगस्त 2023
0
0
0

महासभा का सभापतित्व अब फूलो का कोमल ताज नही रह गया है। फूल के दल तो दिनो-दिन गिरते जाते है और काटे उघड जाते है । अब इस काटो के ताज को कौन धारण करेगा ? बाप या बेटा ? सैकडो लडाइयो के लडाका पडित मोतीलाल

17

अध्याय 17: वल्लभभाई पटेल

16 अगस्त 2023
0
0
0

सरदार वल्लभभाई पटेल के साथ रहना मेरा बडा सौभाग्य 'था । उनकी अनुपम वीरता से मैं अच्छी तरह परिचित था, परतु पिछले १६ महीने मे जिस प्रकार रहा, वैसा सौभाग्य मुझे कभी नही मिला था । जिस प्रकार उन्होने मुझे स

18

अध्याय 18: जमनालाल बजाज

16 अगस्त 2023
0
0
0

सेठ जमनालाल बजाज को छीनकर काल ने हमारे बीच से एक शक्तिशाली व्यक्ति को छीन लिया है। जब-जब मैने धनवानो के लिए यह लिखा कि वे लोककल्याण की दृष्टि से अपने धन के ट्रस्टी बन जाय तब-तब मेरे सामने सदा ही इस वण

19

अध्याय 19: सुभाषचंद्र बोस

16 अगस्त 2023
0
0
0

नेताजी के जीवन से जो सबसे बड़ी शिक्षा ली जा सकती है वह है उनकी अपने अनुयायियो मे ऐक्यभावना की प्रेरणाविधि, जिससे कि वे सब साप्रदायिक तथा प्रातीय बधनो से मुक्त रह सके और एक समान उद्देश्य के लिए अपना रक

20

अध्याय 20: मदनमोहन मालवीय

16 अगस्त 2023
0
0
0

जब से १९१५ मे हिदुस्तान आया तब से मेरा मालवीयजी के साथ बहुत समागम है और में उन्हें अच्छी तरह जानता हू । मेरा उनके साथ गहरा परिचय रहता है । उन्हें मैं हिंदू-संसार के श्रेष्ठ व्यक्तियो मे मानता हूं । क

21

अध्याय 21: श्रीमद् राजचंद्रभाई

16 अगस्त 2023
0
0
0

में जिनके पवित्र सस्मरण लिखना आरंभ करता हूं, उन स्वर्गीय राजचद्र की आज जन्मतिथि है । कार्तिक पूर्णिमा संवत् १९७९ को उनका जन्म हुआ था । मेरे जीवन पर श्रीमद्राजचद्र भाई का ऐसा स्थायी प्रभाव पडा है कि

22

अध्याय 22: आचार्य सुशील रुद्र

16 अगस्त 2023
0
0
0

आचार्य सुशील रुद्र का देहात ३० जून, १९२५ को होगया । वह मेरे एक आदरणीय मित्र और खामोश समाज सेवी थे। उनकी मृत्यु से मुझे जो दुख हुआ है उसमे पाठक मेरा साथ दे | भारत की मुख्य बीमारी है राजनैतिक गुलामी |

23

अध्याय 23: लाला लाजपतराय

16 अगस्त 2023
0
0
0

लाला लाजपतराय को गिरफ्तार क्या किया, सरकार ने हमारे एक बड़े-से-बडे मुखिया को पकड़ लिया है। उसका नाम भारत के बच्चे-बच्चे की जबान पर है । अपने स्वार्थ-त्याग के कारण वह अपने देश भाइयो के हृदय में उच्च स्

24

अध्याय 24: वासंती देवी

16 अगस्त 2023
0
0
0

कुछ वर्ष पूर्व मैने स्वर्गीय रमाबाई रानडे के दर्शन का वर्णन किया था । मैने आदर्श विधवा के रूप मे उनका परिचय दिया था । इस समय मेरे भाग्य मे एक महान् वीर की विधवा के वैधव्य के आरभ का चित्र उपस्थित करना

25

अध्याय 25: स्वामी श्रद्धानंद

16 अगस्त 2023
0
0
0

जिसकी उम्मीद थी वह ही गुजरा। कोई छ महीने हुए स्वामी श्रद्धानदजी सत्याग्रहाश्रम में आकर दो-एक दिन ठहरे थे । बातचीत में उन्होने मुझसे कहा था कि उनके पास जब-तब ऐसे पत्र आया करते थे जिनमे उन्हें मार डालन

26

अध्याय 26: श्रीनिवास शास्त्री

16 अगस्त 2023
1
1
1

दक्षिण अफ्रीका - निवासी भारतीयो को यह सुनकर बडी तसल्ली होगी कि माननीय शास्त्री ने पहला भारतीय राजदूत बनकर अफ्रीका में रहना स्वीकार कर लिया है, बशर्ते कि सरकार वह स्थान ग्रहण करने के प्रस्ताव को आखिरी

27

अध्याय 27: नारायण हेमचंद्र

16 अगस्त 2023
0
0
0

स्वर्गीय नारायण हेमचन्द्र विलायत आये थे । मै सुन चुका था कि वह एक अच्छे लेखक है। नेशनल इडियन एसो - सिएशनवाली मिस मैंनिग के यहा उनसे मिला | मिस गजानती थी कि सबसे हिल-मिल जाना मैं नही जानता । जब कभी मै

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए