shabd-logo

तुम्हारा जीजू

12 जून 2023

19 बार देखा गया 19

जब तक ये पत्र तुम्हारे हाथ में होगा, मैं अर्पणा और खुशबू को लेकर जा चुका होऊंगा, एक नए शहर में। सच पूछो तो ये ट्रांसफर मैंने जानबूझकर और ज़िद कर के लिया था वर्ना मेरा सबकुछ ठीक चल रहा था ऑफिस में। बल्कि वहीं पर तरक्की होकर ब्रांच-मेनेजर बनने के आसार भी काफी स्पष्ट दिख रहे थे। इसकी वजह ये थी कि मैं तुमसे दूर होना चाहता था। क्योंकि अगर मैं उसी शहर में रहता तुम्हारे पास, तो वो सब हो जाता जो अंतत: मैं नहीं होने देना चाहता था।

सात-आठ महीने पहले जब अर्पणा बीमार होकर बिस्तर पर पड़ गयी थी और बाबूजी ने तुम्हें उसकी तीमारदारी करने के लिए हमारे घर भेज दिया था तब हमारे साथ-साथ अर्पणा की सेवा करते-करते कब इतने अतरंग सम्बन्ध बन गए, भावनाओं के भंवर में इसका ठीक से अहसास ही नहीं हो पाया।

इससे पहले मैं तुम्हें बच्चा ही समझता था और शायद उसी तरह से व्यवहार भी करता था। पर जब उस बार तुम हमारे यहां आईं और अर्पणा की देखभाल के लिए हमें एक टीम की तरह काम करना पड़ा तो मुझे पता लगा कि जिसे मैं बच्ची समझता हूँ वह असल में वयस्क है। फिर अर्पणा दो महीनों के लिए कोमा में चली गयी और हमारे और तुम्हारे पास सिर्फ इंतज़ार करने के और कोई काम न था। समय बिताने के लिए हमने कितनी ही तरह की बातों पर बतियाना शुरू कर दिया और फिर स्त्री-पुरुष के संबंधों को लेकर हमारी हल्की-फुल्की तकरार शुरू हो गयी। यौवन की दहलीज पर खड़ी तुम्हारी कई स्वाभाविक उत्सुकताओं, मान्यताओं और धारणाओं के मकड़जाल को खोलते-खोलते कब मैं तुम्हारे आकर्षण में कैद हो गया पता ही न चला।

फिर जाने-अनजाने भावनाओं और आवेग की लहरें समझदारी और विवेक को बहा कर ले गयी। तुम तो नादान थी पर मुझे अब अपनी हरकतों पर अपराधबोध होता है। न मैं खुद संभल सका, न ही तुम्हें संभलने का मौका दिया। मुझे नहीं मालूम तुम उस समय मेरे बारे में क्या सोचती थी (और न ही अब जानना चाहता हूँ) पर मेरे दिलो-दिमाग पर तुम हावी थी। ऑफिस से अक्सर मैं कोई बहाना बना कर घर आ जाता और तुम्हारे साथ वक्त बिताने का कोई मौका नहीं छोड़ता। इन सब में बिचारी खुशबू भी उपेक्षित होने लगी थी पर मेरा ध्यान तो कहीं और था। तुम्हारी बातों से तुम्हारी पसंद और नापसंद जान कर मैं तुम्हें खुश करने के लिए न जाने कितने प्रपंच करता, इसका अहसास तुम्हें शायद कभी न हो पायेगा। ऐसा करते समय अगर कोई साथी या रिश्तेदार मुझसे उलझता तो में उससे भिड़/चिढ़ जाया करता था।

मैं ऑफिस में होऊॅं या गाड़ी में तुम्हारा भोला चेहरा मेरी नज़रों में घूमता रहता। एक नशे में रहता था मैं हर वक्त। पास आने पर तुम्हें स्पर्श करने के बहाने ढूंढता था और ऐसा मौका मिलने पर इस अवस्था को देर तक साधने का अथक प्रयास करता था। ये सब कुछ परदे के पीछे से होता था ऊपर से दिखावा तो कुछ और ही चलता था। जब कभी तुम मुझे सांत्वना देने के लिए स्वाभाविक रूप से स्पर्श करती तो मैं इस स्पर्श में डूब सा जाता था और एक अलग ही दुनिया में पहुँच जाता था।

दो महीने बाद जब अर्पणाकोमा से बाहर आयी तो धीरे-धीरे मुझे भी होश आया। लगने लगा उसका हक़ छीन कर किसी और को देने का अपराध कर बैठा हूँ, जाने-अनजाने में। शायद हमारे इस गुप्त रिश्ते की खबर किसी और को कभी नहीं होगी। अगर कभी किसी को कुछ पता भी लगा तो हमारे समाज की बनावट और उसमें मेरी स्थिति ऐसी ही है कि मुझे माफ़ कर दिया जायेगा। पर शायद मैं अपने आप को कभी माफ़ कर भी पाऊंगा या नहीं, इस अघोषित प्रेम प्रसंग के लिए?

इस पत्र को मैंने अपने कम्प्यूटर पर लिख तो लिया है पर क्या मैं इसे कभी तुम्हें मेल करने का साहस
कर पाऊंगा? लगता है इसे बदले हुए नामों के साथ एक कहानी का रूप देकर प्रकाशित कर लूँगा तो मुझे कुछ हद तक सुकून मिल जायेगा।

…………………तुम्हारा जीजू

लेफ्टिनेंट कर्नल दीपक दीक्षित (से. नि.) की अन्य किताबें

Meenu Dwivedi

Meenu Dwivedi

बहुत सुंदर लिखा आपने सर अपने मनोभावों को व्यक्त करने का साहस प्रत्येक व्यक्ति में होना ही चाहिए 👌👍सर आप मुझे फालो करके मेरी कहानी पर अपनी समीक्षा जरूर दें 🙏

30 सितम्बर 2023

40
रचनाएँ
इन्द्रधनुष
0.0
आम लोगों की जिंदगी की तरह तरह के रंग बिखेरती हुयी कहानियाँ जो कभी आपको हँसाएगी , कभी आपकी आँखें नम कर देंगी और कभी सोचने पर मजबूर कर देंगी। भावनाओं की कशमकश , विचारों की उथल पुथल में झूलते पात्रों से मिल कर लगेगा कि उसे आपने जरूर कभी न कभी अपने आस पास ही देखा है ।
1

तुम्हारा जीजू

12 जून 2023
6
4
1

जब तक ये पत्र तुम्हारे हाथ में होगा, मैं अर्पणा और खुशबू को लेकर जा चुका होऊंगा, एक नए शहर में। सच पूछो तो ये ट्रांसफर मैंने जानबूझकर और ज़िद कर के लिया था वर्ना मेरा सबकुछ ठीक चल रहा था ऑफिस में। बल्

2

बहरा है क्या

16 जून 2023
5
3
0

रेलगाड़ी बस प्लेटफॉर्म पर लगने ही वाली थी, इसकी उद्घोषणा तो २ मिनट पहले ही हो चुकी थी। अब कुली और खोमचे वाले प्लेटफॉर्म की तरफ जमावड़ा करने लगे जो इस बात का निश्चित संकेत हैं कि गाड़ी सचमुच ही आने वाली थ

3

तमाशबीन

27 जून 2023
3
2
0

 जब गाड़ी ट्रैफिक लाइट पर रेंग रही थी, आशा ने ताज्जुब से कहा, ‘आज दोपहर में भी इतना ट्रैफिक है इस रोड पर’। ‘सारा शहर ही जब देखो तब कहीं भागता रहता है’, लता ने उसकी हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा। सुदीप उन

4

पोस्टमार्टम

27 जून 2023
3
1
0

 नवीन ने नयी कार क्या खरीदी बधाई देने वालों का ताँता सा लग गया। हर कोई आकर उसे नयी कार की बधायी देता ,मिठाई मांगता और फिर लगभग एक जैसे सवालों की झड़ी लगा देता,"कितने की ली? क्या एवरेज देती है? साथ में

5

रिश्वत

6 जुलाई 2023
3
2
0

‘……. यात्री गण कृपया ध्यान दें ,छत्रपति शिवाजी टर्मिनल को जानेवाली पुष्कर एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से चालीस मिनट की देरी से चल रही है। आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है।’ इस एनाउंसमेंट को सुनकरस

6

रिश्तो के खरीदार

6 जुलाई 2023
4
1
0

साक्षात्कार के अधिकतर सवाल अब भी रमन  के दिमाग में घूम रहे थे । “हमारे इस प्रोडक्ट को तुम आज कितने लोगों को बेच सकते हो ? तुम्हारे कितने जानने वाले इसे इस्तेमाल करते हैं ?” वो परेशान था, ये सोच कर कि

7

भूख

6 जुलाई 2023
3
2
0

छोटू और लम्बू एक छोटे से गाँव में रहते थे और अक्सर शहर जाकर पैसा कमाने की बातें किया करते थे. एक दिन दोनों ने आपस में सलाह कर शहर जाने का फैसला किया। छोटू ने खूब घी डाल कर १०० लड्डू बनाये तो लम्बू भी

8

बरसों की मेहनत

6 जुलाई 2023
2
0
0

तेजप्रताप से मेरी मुलाकात बारह साल बाद हो रही थी । उसको कुश्ती में एक राज्यस्तरीय सम्मान मिला था और मुझे जिलाधिकारी की हैसियत से उस सम्मान समारोह में विशेष अतिथि का दर्जा दिया गया था। बरसों पहले गॉंव

9

दल-बदलू

19 जुलाई 2023
2
2
0

“क्या दुविधा है?” राजयोगी ने दूधेश्वर से पूंछा, जो अपने चहरे पर उलझन के भाव लिए हुआ था। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि कैसे वह अपनी बात शुरू करे। वह अपनी बात की भूमिका बनाने का भरसक प्रयास कर रहा था। उ

10

वक्त की मार

19 जुलाई 2023
2
0
0

 "तुम ?"  राजेश के मुह से अनायास ही उस वक्त निकला जब वह पार्टी के अन्य सदस्यों के साथ एक भव्य और विशालकाय इमारत में प्रवेश कर रह था , जिसके प्रवेश-द्वार को एक सुरक्षाकर्मी बड़ी नफासत से खोल कर अभिवाद

11

ऊपर की कमाई

19 जुलाई 2023
2
0
0

बीयर की चुस्कियों के साथ मैं और राजेश अपने मनपसंद रेस्टोरेंट में टाइमपास कर रहे थे क्योंकि हमारी फ्लाइट तीन घंटे देरी से जाने वाली थी। काफी दिनों से मैं ऐसे ही किसी मौके की तलाश में था जहाँ एक दोस्त क

12

सितारा

19 जुलाई 2023
2
2
0

पैक-अप होते ही भीड़ का रेला उसकी एक झलक पाने को सारे बंधन तोड़ कर उस तक पहुँचना चाहता था, मगर कार के दक्ष ड्राइवर ने सधे हुए नपे तुले हाथों से एक पल में ही गाड़ी ठीक उसके सामने लगा दी,फिर लपक कर बड़ी न

13

ऐ दिल तू जी ज़माने के लिए

19 जुलाई 2023
2
0
0

एक बार एक लोभी व्यक्ति रात में एक गड्ढे में गिर गया।  सुबह हुयी तो वहां जा रहे एक एक युवक राहगीर से उसने निकलने के लिए मदद माँगी।  उसे ऊपर लेने के लिए राहगीर ने अपना हाथ बढ़ाया और बोला , ‘बुजुर्गवार,

14

समाज सेवा

19 जुलाई 2023
3
1
0

सुल्तान और अंजलि दोनों भाई बहन की मंजिल एक थी - उनका घर। जैसे ही उनके पापा यानी प्रमोद ने उनकी मम्मी यानी सलमा की मौत की खबर दी ,दोनों सकते में आ गए थे । अचानक हुए हार्ट अटैक को पहचानने और डाक्टर के

15

मुन्नी का आतंक

30 जुलाई 2023
2
1
0

 हमारे घर में अगर कोई वीआईपी है तो वो मेरी पत्नी नहीं है।  जी हाँ , आपने ठीक समझा। उसकी भी एक बॉस है जो उसे भी अपनी उँगलियों पर नचाती है।   वो है हमारी काम वाली बाई –मुन्नी।   इस बात का अनुमान तो मु

16

बचत

30 जुलाई 2023
2
1
0

‘हे भगवान! ये महीने की पहली तारीख हर बार इतनी देर से क्यों आती है’ दामिनी ने फिर सोचा। हर महीने के तीसरे–चौथी हफ्ते में अक्सर यह ख़याल उसके मन में आता था, खास कर जब कोई पैसे खर्च करने वाली बात होती। अख

17

एक चोर की दिहाड़ी

7 अगस्त 2023
2
0
0

सुनील एक शातिर चोर था। चोरों की बिरादरी में उसकी खासी इज्जत थी. वो लोग कहते थे कि अगर सुनील का दिल आ जाये तो वो किसी आदमी की आँखों से काजल भी चुरा लाये और उसे पता भी न चले। टूंडला जंक्शन से मुगलसराय ज

18

डायरी के पन्नो में सिमटा घर

7 अगस्त 2023
2
1
0

सुदीप की डायरी (21 अगस्त 20**) आज का दिन शुरू से ही मनहूस रहा है. सुबह देर से आँख खुली, रात भर मुन्ने ने सोने जो नहीं दिया था। ऑफिस के लिए भी लेट हुआ. ब्रेकफ़ास्ट छोड़ कर भी समय से न पहुँच सका और बॉस

19

नाम का सवाल

7 अगस्त 2023
3
1
0

अजय को एक अदद क्रिकेट बैट की तलाश थी। कल सुबह सात बजे से उसका इंटर कॉलेज टूर्नामेंट में ओपनिंग बैटिंग करनी थी और आज रात को उसका बेट एक एक्सीडेंट में शहीद हो गया था। गनीमत है उसे खुद इसमें कोई चोट नहीं

20

जीवन चक्र

7 अगस्त 2023
2
1
0

अजय ने पान की गुमटी देख कर कार रोकी और अपनी मनपसंद सिगरेट खरीद कर उसके कश लगाने लगा। बेचारे को घर और ऑफिस में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है क्योंकि उसकी बीबी और बॉस दोनों ही उसका सिगरेट पीना पसंद नहीं करते

21

बरसों की मेहनत

7 अगस्त 2023
2
1
0

तेजप्रताप से मेरी मुलाकात बारह साल बाद हो रही थी । उसको कुश्ती में एक राज्यस्तरीय सम्मान मिला था और मुझे जिलाधिकारी की हैसियत से उस सम्मान समारोह में विशेष अतिथि का दर्जा दिया गया था। बरसों पहले

22

खबरों की दुनियां

7 अगस्त 2023
2
0
0

हमारी टीम ने अपनी मनपसंद जगह चुन कर कैमरा लगा लिया था। इस जगह से वह मंच बिल्कुल साफ दिखता था जहाँ से एक वीईपी को आकर कोरोना के प्रकोप से बेघर हुए मजदूरों को खाना बांटना था। मेरी चैनल के चीफ-एडिटर ने

23

भिक्षाम देहि:

7 अगस्त 2023
2
1
0

“भिक्षाम देहि:”, कहते हुए अजय ने भिक्षा-पात्र संदीप के सामने खटखटाया तो संदीप को उन भिखारियों का ध्यान आया जो रोज ऑफिस जाते समय मेट्रो में इस तरह कटोरे खड़काते हुए घूमते रहते थे। उसने मुस्कुराते हुए

24

शादी का लिफाफा

16 सितम्बर 2023
2
1
0

 अजय की बेटी की शादी में जाने के लिए जब सब तैयार हो रहे थे तो मैंने इस काम के लिए ले जाने वाले एक लिफाफे को निकाला और सोचा इसमें कितनी रकम डालूं। आम तौर पर मेरी पत्नी इस जिम्मेदारी को निभाती थी और इस

25

आदत से मजबूर

16 सितम्बर 2023
2
0
0

विमान में प्रवेश की उद्घोषणा के साथ रमा एक झटके से उठ बैठी और लपक कर लाइन में लग गयी। वहीं सुरेश आराम से अपने लैपटॉप पर काम करता रहा। दोनों दम्पतिअक्सर हवाई जहाज से यात्रा करते थे और हर बार ऐसा ही घटन

26

बचपन का भोलापन

16 सितम्बर 2023
2
1
0

अपने कम्प्यूटर के लिए मैं एक नया रंगीन प्रिंटर लाया था। घर में सबको बुला कर शेखी बघारते हुए बताया," ये बहुत अच्छी तकनीक से बना है और किसी भी चीज को हू-बहू प्रिंट कर देता है।" फिर मैंने सबको आदेश दिया

27

बस के इंतजार में

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

'उन्नीस नंबर की फ़्रीक़ुएन्सी क्या है?', उसी आवाज ने दूसरी बार ये सवाल किया था। शायद सवाल मुझसे ही पूंछा जा रहा था।  मैंने काले रंग की उस लम्बी सी कार को घूरना बंद किया जिसका ड्राईवर गुनगुनाते हुए उसे

28

निःशब्द

3 अक्टूबर 2023
2
2
0

रूमी अपने गांव में दादाजी के साथ कुछ दिन के लिए छुट्टी मनाने अमेरिका के एक बड़े संस्थान से मैनेजमेंट की डिग्री लेकर आई थी। ब्रांडिंग के बारे में चर्चा करते हुए उसने दादाजी को मैकडोनल कंपनी का उदाहरण द

29

ज्ञान की बात

3 अक्टूबर 2023
2
2
0

टेलीविजन पर शंकराचार्य और मंडन मिश्र के शास्त्रार्थ का प्रसंग चल रहा था। जीत और हार के लिए जो मानक निर्धारित किए गए थे मुझे उस समय वह बड़े हास्यास्पद लग रहे थे। दोनों के गले में फूलों की एक-एक माला थी

30

झूठा इंसान

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

कई साल पहले की बात है , मैं दिल्ली में नौकरी करता था. सर्दियों की एक सुबह स्कूटर पर मैं गाज़ियाबाद से अपने ऑफिस जा रहा था।  रोज की इस दिनचर्या में स्कूटर के साथ दिमाग में विचार भी अपनी गति और दिशा में

31

फर्जी अफसर

3 अक्टूबर 2023
2
2
0

एक बार मेरा भतीजा अपने मित्र का फौज की वर्दी में एक फोटो लेकर आया और बोला कि चाचा यह भी फौज में अफसर बन गया है। मैंने कुछ पल तक उस फोटो को देखा और कहा,"तुम्हारा दोस्त तुमसे कोई मज़ाक कर रहा है, यह आदम

32

नयी ट्रक

3 अक्टूबर 2023
2
1
0

हमारे यूनिट में एक बार एक प्रख्यात कंपनी की दो दर्जन ट्रक ट्रायल की लिए आईं। ये उस समय की देश की आधुनिकतम ट्रक थीं जिसमे‘आटोमेटिकगियर’ लगे थे। इस ट्रायलके आधार पर ही उस कंपनी को फौज से एक बड़ा आर्डर मि

33

लौटा बचपन

3 अक्टूबर 2023
2
1
0

 "खुशबू,मैं नीचे टहलने जा रहा हूँ, तुम भी चलोगी क्या?" मैंने सोफे से उठते हुए पूछा।   इससे पहले कि खुशबू कोई जबाब देती,माया ने उसे आंखें दिखते हुए कहा,“खुशबू को अभी होम-वर्क पूरा करना है,आप जाइये।“ 

34

विदेशी मेहमान

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

 जमुनादास की चाय तो कुछ खास नहीं थी पर उसकी छोटी सी दुकान पर जमीं रहने वाली भीड़ शायद उसकी लच्छेदार बातों के दम पर ही जुटा करती थी। हर बात वो इतने विश्वास के साथ कहता था कि मानों उसके आँखों के सामने घ

35

सारी दुनिया को बेच डालूँगा

3 अक्टूबर 2023
2
1
0

 बेचनलाल जी बचपन के मित्र है। तीन साल पहले तक सैकिंड-हैण्डखटारास्कूटर को घसीटते घूमते थे। अब न जाने कैसे उनका कायापलट हो गया है। पांच गाड़ियों और दो फ्लैट के साथ आलीशान आफिस है। बड़ा काम हैऔर नाम भी।

36

ये कैसी भीड़ ?

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

 उस दिन से पहले मैं भगवान् से हमेशा मन्नत माँगता था कि मेरे खोमचे पर भी खूब भीड़ हो.  वैसी ही भीड़ जैसी नंदू और राधे के खोमचों पर अक्सर हुआ करती है. इसी भीड़ के दम पर वो लोग अक्सर मेरा मजाक भी उड़ाया करत

37

किरायेदार

3 अक्टूबर 2023
2
1
0

गुप्ताजी का आज का व्यवहार अप्रत्याशित था । पिछले बारह वर्षों से मैं उनका किरायेदार था पर हम दोनों के परिवारों के बीच इतना आना-जाना था कि लोग उन्हें हमारा रिश्तेदार ही समझते थे। घर में कोई उत्सव हो या

38

आँख वाले तो देख लेते

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

कई साल पहले की बात है ,मेरे ग्यारह वर्षीय पुत्र ने गिटार सीखने की इच्छा जाहिर की थी। मेरे घर के पास ही एक संस्थान था जहाँ बच्चों को गिटार सीखने का प्रशिक्षण दिया जाता था, अत: मैंने अपने बेटे का दाखिला

39

नमूने

3 अक्टूबर 2023
2
0
0

मेरे एक मित्र के सर पर गिनती के पांच बाल हैं। यह कोई अतिशयोक्ति नहीं हैं बल्कि बिलकुल सत्य वचन हैं । आप चाहें तो गिन भी सकते हैं। पर मजाल हैं की कोई उनको सामने आकर गंजा कह जाये। वो पहले तो अविश्वास से

40

हिसाब किताब

3 अक्टूबर 2023
2
2
0

घर में कल शाम से ही बबाल मचा हुआ था। शाम को सुधा की शादी में जाना था और लेन देन की डायरी कहीं मिल ही नहीं रही थी। इस डायरी में इस बात का हिसाब किताब रखा जाता था कि किसने हमारे घर में हुए किसी समारोह म

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए