shabd-logo

अंधविश्वास

hindi articles, stories and books related to andhvishvaas


नमस्कार मेरा नाम मनीष है और मेरी उम्र 30 साल है मेरी पुस्तक मेरी जिंदगी एक युद्ध के द्वारा मैं अपने साथ हुए इंसीडेंट को सभी के साथ बांटना  चाहता हूं और मेरी कोशिश है मेरी कहानी सुनकर सबको कुछ सीखने को

featured image

गुजरात मोरबी पुल हासदा गुजरात में हुए हासदे में 90 से 120 लोग मारे गए करीब 150 से अधिक लोग घायल हो गए ।घायल हुए अब भी दम तोड़ रहे है ।मोरबी में मच्छू नदी का केबल गिरा करोड़ो की लागत से रंग रोगन पु

एकबार कलाम के विज्ञान के शिक्षक ने उन्हें अपने घर खाने पर बुलाया । इस बात से उन शिक्षक की पत्नी परेशान हो उठीं कि उनकी पवित्र रसोई में एक मुसलमान युवक को भोजन पर आमंत्रित किया गया है । उन्होंने कलाम क

अंधविश्वास अवधारणा एक,मन में यह  जो पनपती है।बड़े बुजुर्ग जो सीखा गए,धारणा मन में बसती है।।अंधविश्वास से ज्ञान कमी,आंख मूंद कर करे विश्वास।करे आस्था से खिलवाड़,न पूरी हो कभी वह आस।।अंधविश्वास से

featured image

शीर्षक--ये अंधविश्वास नही हैहमारे देश में विश्वास को भी लोग अंधविश्वास मानते है, और आधुनिकता और विज्ञान तो और भी उन्हें जहर की भांति हमारे समाज में फैला दिया है।उन्हें क्या? पता उन अंधविश्वास में भी ज

जैसा कि कुछ ही दिनों पहले अमृतसर में हरमंदिर साहिब में एक व्यक्ति की पीटपीट कर हत्या कर दी गई। देखा जाये तो बिल्कुल ही गलत हुआ। इसके पष्चात कपूरथला में भी इसी प्रकार की घटनाएं सामने आई जिसमें सिक्खों

हां मैं आधा इंसान हूं।मेरे माता-पिता के बिना।जिनका खून मेरी रगों में उबल रहा।जिनका हर रंग में में रंगा हुआ।मैं छाया हूं उनके सपनों की।यह सबसे उच्च श्रेणी है अपनों की ।मैं उनके बिना अधूरी जी और जान हूं

जन्म से पहले ही मार दी जाती है, आखिर है उसका कसूर। वो खुशियों की लहर, वो जीवन का है नूर शदियों से देखा जाता है । बेटों की चाह में या तो कन्या भ्रूण हत्या करते है या जन्म लेते ही लड़कियों को मार द

एक बेटी का जन्म क्यों अभिशाप माना जाता है और बेटे का जन्म वरदान। ये कैसी सोच , ये कैसी मानसिकता? क्यों बेटी के जन्म से निराशा का मोहौल हो जाता है?क्या बेटी को इस संसार का सुख पाने का अधिकार नही ह

कई बार जो हम सोचते है और चाहते है । उससे उलट हो जाता है। जरूरी नहीं हम जो चाहे वहीं हो, इसके कई कारण होते है। कुछ कोशिश में कमी या फिर किस्मत भी कह सकते है। उस वक्त हौसला हारने के बजाय अपनी कमजोरियों

🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍💗🤍🌹🌹शाम की रौशनी में तुम.....इस तरह से याद आते हो🌹🌹🌹🌹जैसे चांद बीन रात का......कोई महत्व नहीं होता🌹🌹🌹🌹वैसे ही तुम्हे याद किए बिना.....मेरी कोई शाम

सखि, जब आदमी का गुरूर सातवें आसमान पर पहुंच जाता है तो आम आदमी ही इस गुरूर को तोड़कर ऐसे आदमी को सबक सिखाता है । लोकसभा उपचुनाव के परिणाम यही बता रहे हैं सखि । अभी हाल ही में तीन लोकसभा क्षे

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए