shabd-logo

क्या यही प्यार है -2(भाग:-7)

26 जुलाई 2023

20 बार देखा गया 20
गतांक  से आगे:-

रमनी ने हाथ में लगे टांकों को देखा और घबराकर पूछा,"ये क्या हो गया हाथ पर?"
जोगिंदर ने माहौल को सहज करते हुए कहा,"अरे कुछ नहीं रमनी तुम्हें तो पता है आजकल लोग स्कूटर वगैरह कैसे चलाते हैं एक लड़के ने टक्कर मार दी और मैं नीचे गिर गया और थोड़ा हाथ पर चोट आ गई जख्म गहरा था तो टांकें लगवाने पड़े।"
जोगिंदर जानबूझ कर बात छुपा गया।अगर वो ये बात जान जाती कि वह भी चंचला की आत्मा से खौफ खा गया है और उसने ताबीज और रक्षासूत्र अपनी बाज़ू में इंप्लांट करवा लिया है तो ये बात समझते देर नहीं लगाती कि मामला कितना गम्भीर हो गया है।
अब रमनी को भी शहर आये लगभग दो महीने हो गए थे।उसने यह महसूस किया था कि जब से उसने रक्षासूत्र व ताबीज पहना था तब से उस काली बिल्ली का आंतक कुछ कम हो गया था।अब तो वो घर में दिखाई ही नहीं दी थी उसके बाद से ।रमनी को भी लगा कि चंलो अब उससे पिंड छूट गया।
रमनी को आठवां महीना लग गया था ।डाकटरनी ने चेकअप करके बताया था कि बच्चे जुड़वां हैं। रमनी का पेट बहुत बड़ा हो गया था चलना फिरना दुश्वार हो गया था फिर घर का काम कैसे करती । इसलिए जोगिंदर ने उसके लिए सारे काम वाली एक नौकरानी रख दी थी।

कमला नाम था उसका, पास ही झोपड़पट्टी में रहती थी।पति शराबी था इसलिए अपना और बच्चों का पेट पालने के लिए घर घर काम करती थी ।पहले पांच घरों में झाड़ू पोंछा करती थी लेकिन रमनी ने उसे पूरे महीने की तनख्वाह उसकी महीने की कमाई से ज्यादा देकर पूरे दिन के लिए अपने यहां रख लिया था ।अब वो सारा दिन रमनी और बच्चों की सेवा टहल करती थी।
बड़ा अपनापन सा हो गया था उसे रमनी और बच्चों से।
एक दिन ऐसे ही बैठे हुए वो रमनी के सिर में तेल मालिश कर रही थी बात भूत प्रेत की चल निकली।वो अपने गांव का कोई किस्सा सुना रही थी तभी रमनी ने भी चंचला वाला किस्सा उसे बता दिया और ये भी बता दिया कि कैसे वो बिल्ली के रूप में उसे डराती थी।
  ये सुनकर कमला मुंह पर हाथ रखकर बोली,"ओह रे! मेम साहब आप तो बहुत बड़ी मुश्किल में फंसे गयी हो।ये भूत प्रेत अगर किसी के पीछे पड़ जाए तो जल्दी से पीछा नहीं छोड़ते। हमारे गांव में भी इसी तरह की घटना हुई थी वो आत्मा उसके पति को अपने साथ ले जाकर ही मानी।"
रमनी का मन पहले से ही अंदर से डरा हुआ था अब ये सुनकर उसका कलेजा ही मुंह को आ गया था ।वह बस यही सोचे जा रही थी कि "क्या प्यार इसे ही कहते है"
प्यार का नाम तो किसी पर कुर्बान हो जाना होता है फिर चंचला मर कर भी पीछे क्यों पड़ी है ।एक बार उसकी आत्मा की मुक्ति करवा दी थी शादी के समय लेकिन ये फिर लौट आई।
वह जोगिंदर के बगैर जी पायेगी।नहीं बिल्कुल भी नहीं बच्चों का क्या होगा। बस वह यही सोच रही थी।
तभी कमला ने उसे चुप देखकर कहा,"क्या हुआ बीवी जी आप चुप क्यों हो गयी?"
रमनी अपने मन का डर छुपाते हुए बोली,"अरे ना रे।ऐसा कुछ नहीं है वैसे भी हमने उस आत्मा से सुरक्षा के लिए रक्षासूत्र वो ताबीज पहना रखा है । हमारे तांत्रिक बाबा सब ठीक कर देंगे।
धीरे धीरे समय व्यतीत होने लगा ।रमनी की जचगी नजदीक आती जा रही थी एक तो जुड़वां बच्चे दूसरा अब तो वो बिल्कुल बैड पर बैठ गयी थी सोई जोगिंदर ने रमनी की मां को यहीं शहर में अपने पास बुला लिया क्यों कि एक मां से ज्यादा एक बेटी की देखभाल कौन कर सकता था।
एक रात रमनी को प्रसव पीड़ा शुरू हो गयी। जोगिंदर ने फटाफट गाड़ी निकाली और रमनी को अस्पताल ले गया। अचानक से रमनी की मां को याद आया कि उसने जो जच्चा बच्चे के लिए थैला बना रखा था(मतलब जब बच्चे पैदा होंगे तो उनके लिए कपड़े तौलिया वगैरह का थैला) वो तो घर ही भूल आई हूं ।तभी जोगिंदर ने अस्पताल की सारी कार्यवाही पूरी करके अपनी सास से कहा," मां जी मैं ले आता हूं थैला आप निश्चित रहें।"
यह कहकर दर्द से तड़पती रमनी के सिर पर हाथ फेरकर जोगिंदर घर से थैला लेने चल दिया।
अब उसे क्या पता था कि उसके साथ क्या होने वाला है ।उसे तो बस फटाफट अपनी रमनी के पास पहुंचना था जो अस्पताल में तड़प रही थी।इसी चक्कर में वै गाड़ी तेज भगाता हुआ अस्पताल की ओर जा रहा था। जल्दबाजी में उसने जैसे ही एक तीखा मोड़ पार किया सामने से आ रहे ट्रक ने उसकी गाड़ी में जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भयानक थी कि गाड़ी के परचखडे उड़ गये। गाड़ी के भाग दूर दूर जा कर पड़े। चारों तरह कोहराम मच गया।लोग भाग लिए कोई कह रहा था "हाय राम! टक्कर इतनी भयानक थी कि गाड़ी के अंदर बैठा आदमी दस फीट ऊपर उछल कर नीचे गिरा है ।"
जोगिंदर गाड़ी के नीचे दबा पड़ा था ।उसकी आंखें लगभग बंद होने को थी वो बस यही बुदबुदा रहा था कि "मैं बच्चों का मुख…. 
तभी जोगिंदर ने देखा उसने जिस बाज़ू में रक्षासूत्र इंप्लांट करवाया था वो कट कर दूर जा गिरा था और चंचला बिल्कुल उसके नजदीक बैठी उसके बालों में हाथ फेर रही थी।अब जोगिंदर को समझ आ गया था कि उसका रमनी से बिछड़े का समय हो गया है और उसने एक लम्बी सांस ली और उसके प्राण पखेरू उड़ गए।
धीरे धीरे उसकी आत्मा उसके शरीर से बाहर हो गयी और चंचला की आत्मा उसे लेकर दूर जंगल में कहीं अंधेरे में खो गयी।

इधर रमनी को लेबर पेन जोर से हो रहे थे रमनी बेहोशी की हालत में भी  जोगिंदर को ही बुला रही थी तभी उसे ऐसे लगा जैसे जोगिंदर उसके पास खड़ा है और उसके सिर पर बड़े प्यार से हाथ फेर रहा है और कह रहा है
"सुन मेरी जान , मैं तो जा रहा हूं तुम बच्चों का ख्याल रखना।"
रमनी ने दर्द में ही आंख खोले बिना कहा,"कहां जा रहे हो तुम मुझे छोड़ कर ।देखो….तुम मत जाना वरना मेरा मरा मुंह देखोगे।"
कमला ने उसे झिंझोड़ कर कहा,"मेम साहब किस से बातें कर रही हो?"
(क्रमशः)


30
रचनाएँ
क्या यही प्यार है?--2
5.0
जोगिंदर,रमनी और चंचला के प्यार को जानने के लिए आपको "क्या यही प्यार है" का सीजन :-1 पढ़ना होगा।अब हम आप को प्यार के एक अलग स्वरुप से अवगत कराएंगे।आईए आप और हम साथ साथ महसूस करें सिया और जिया के प्यार को।कितनी शिद्दत से उन्होंने प्यार किया अपने अपने महबूब से । क्या वो सफल हो पाई अपने अपने प्यार को पाने में? आइए जानें।
1

क्या यही प्यार है -2 (भाग:-1)

19 जुलाई 2023
16
8
5

समय का पहिया घुमता रहा ।रमनी और जोगिंदर अपनी गृहस्थी मे रम गये । जोगिंदर शहर चला गया पढ़ने । वहां से अपनी पढ़ाई पूरी करके सरकारी नौकरी पर लग गया था ।रमनी जोगिंदर की पढ़ाई के दौरान गांव मे ही रही। दो ब

2

क्या यही प्यार है?:-2(भाग:-2)

20 जुलाई 2023
8
6
1

गतांक से आगे:-जोगिंदर की सांसें बहुत तेजी से चल रही थी ।उसने सपने मे देखा ।जैसे रमनी अपनी मां के यहां से वापस हवेली की ओर आ रही थी । रास्ते मे एक दम से रमनी जोर जोर से चिल्लाने लगी । जोगिंदर ने जब उसक

3

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-3)

22 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-रमनी शहर जा रही थी अपनी गृहस्थी बसाने ।गांव से नाता टूटता जा रहा था ।वह जैसे ही गाड़ी की अगली सीट पर बैठी तभी अचानक से एक काली बिल्ली हवेली के दरवाजे से निकल कर उनके सामान वाली गाड़ी मे

4

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-4)

22 जुलाई 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने देखा गैस पर जो खीर का पतीला रखा था वह औंधें मुंह पड़ा था सारी गैस खीर से लबालब हो गयी थी और वही काली बिल्ली..…. हां हां वही काली बिल्ली जो सामान के साथ गांव से शहर उनके साथ आय

5

क्या यही प्यार है -2(भाग:-5)

25 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने रमनी को झिंझोड़ कर पूछा," कौन आ गयी और किसी ले जाएगी?"पर रमनी तो जैसे शून्य में निहार रही थी जैसे उसका सामना साक्षात मौत से हो गया हो और अचानक से फिर चीखते हुए बेहोश हो गयी।जो

6

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-6)

25 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगे:-कहते हैं इंसान जो बात सोचता सोचता सोता है अक्सर वही स्वप्न में आ जाता है। जोगिंदर चंचला के विषय में सोच रहा था और सो गया तो उसे एक स्वप्न दिखाई दिया जैसे चंचला पूरा श्रृंगार करके ड्

7

क्या यही प्यार है -2(भाग:-7)

26 जुलाई 2023
9
7
0

गतांक से आगे:-रमनी ने हाथ में लगे टांकों को देखा और घबराकर पूछा,"ये क्या हो गया हाथ पर?"जोगिंदर ने माहौल को सहज करते हुए कहा,"अरे कुछ नहीं रमनी तुम्हें तो पता है आजकल लोग स्कूटर वगैरह कैसे चलाते

8

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-8)

27 जुलाई 2023
8
7
0

गतांक से आगे:-कमला के इस प्रकार चेताने से रमनी ने आंखें खोली और बोली,"अरे …तुम्हारे साहब आये थे ना अभी ।बता मैं इतने दर्द में हूं और ये मुझे छोड़कर जाने की बात कर रहें हैं।"कमला अचरज से रमनी को देखते

9

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-9)

27 जुलाई 2023
8
7
0

गतांक से आगे:-रमनी पागलों की तरह अपनी मां का चेहरा देखने लगी और झल्ला कर बोली,"क्या मां तुम भी ऐसे ही बोलती रहती हो माना जब बच्चे हुए तब इनको काम के सिलसिले में जाना पड़ गया पर इसका मतलब ये तो नहीं कि

10

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-10)

28 जुलाई 2023
9
7
0

गतांक से आगे:-रमनी को ऐसे लग रहा था जैसे उसकी सारी थकान उतर गयी हो । स्पर्श जाना पहचाना सा लगा।वह अर्ध निंद्रा में थी उसे साफ साफ महसूस हो रहा था वह जोगिंदर ही था ।उसने देखा जोगिंदर उसके सिरहाने खड़ा

11

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-11)

28 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगेआज जोगिंदर को चौदह साल हो गये रमनी को छोड़कर गये हुए ।रमनी ने एक मर्द की तरह अपनी सारी जिम्मेदारी निभाईदोनों जुड़वां बेटियों सिया और जिया और दोनों बेटे विक्की और गौतम के लिए अप

12

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-12)

28 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगे:-रमनी एकदम से हड़बड़ा कर उठ बैठी और अपने आप को चेताया तो उसने पाया वहां कोई भी नहीं था।नौकर ने एक बार फिर से दरवाजा खटखटाया,"बड़ी मां कोई आया है वो आप से मिलना चाहता है।"रमनी अनमने ढंग से

13

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-13)

29 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:- दोनों ने जिद भी ऐसी कर ली थी ना कि कमला से ना उगलते बनता था ना निगलते ।अगर वो चंचला का सत्य सिया और जिया को बता देती तो उसे रमनी मेमसाब का डर लगता था और नहीं बताती तो उन दोनों की क

14

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-14)

29 जुलाई 2023
5
5
0

गतांक से आगेजोगिंदर को चंचला की आत्मा अपने साथ ले तो गई पर वो मन से कभी चंचला का नहीं हो पाया था।उसे सूरज सेन वाले जन्म की कोई बात याद नहीं थी।पर कहते हैं जब कोई आत्मा किसी पर मोहित हो जाती है तो वो उ

15

क्या यही प्यार है -2(भाग:-15)

29 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:-सारा रास्ता सिया का सोच में ही कट गया कि ये नसीब है वो इस कोचिंग संस्थान में आखिर पढ़ कैसे पा रहा है । यहां की फीस जुटाना कोई आसान काम नहीं है।घर आ गया तो रमनी दरवाजे पर ही खड़ी थी दोनों

16

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-16)

30 जुलाई 2023
8
7
0

गतांक से आगे:-पहले तो सिया को लगा ये उसका वहम है ।वह बार बार आंख मसलने लगी लेकिन वो परछाईं लगातार उनके पलंग के चक्कर काटते हुए उसके बिल्कुल पास आ रही थी।सिया जैसे अर्ध निद्रा में थी।उसने देखा एक बहुत

17

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-17)

30 जुलाई 2023
8
8
0

गतांक से आगे:-सिया की सुबह थोड़ी देर से आंख खुली थी।जब वह जगी तो जिया उसे झिंझोड़ रही थी "क्या बात है सिया दीदी आज उठना नहीं है क्या? घोड़े बेचकर सो रही हो नहीं तो इस वक्त तक तो तुम पूजा करके भी

18

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-18)

30 जुलाई 2023
6
5
0

गतांक से आगेनसीब की बेचैनी बढ़ती जा रही थी कि आखिर ये क्या बला है ।अभी इसने फोन पर उस आदमी का हुलिया बताया और दस मिनट में वो आदमी ढ़ेर हो गया।" मियां आप कौन हैं?" नसीब ने झिझकते हुए पूछा।वह आदमी थोड़ा

19

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-19)

30 जुलाई 2023
5
5
0

गतांक से आगे:-आज नसीब पूरे मूड में था ।सुबह से ही तैयार हो रहा था इंस्टीट्यूट जाने के लिए ।कमल देख रहा था नसीब ने बड़े करीने से दाढ़ी तराशी थी ।और आज जो पेंट शर्ट पहनी थी वो गजब ढा रही थी उस पर । इत्र

20

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-20)

30 जुलाई 2023
7
7
0

गतांक से आगे:-मिस्टर अशोक बजाज टैक्सटाइल बिजनेस में जाना माना नाम था पर आजकल कुछ डरे डरे से रहते थे।"जोगिंदर एंटरप्राइजेज" बहुत तेजी से टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज में उभर कर आ रहा था जिसके कारण उनकी साख धीर

21

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-21)

31 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:-सिया ने एक बहादुर योद्धा की तरह बेड पर खड़े हो कर कहा," देखा जाएगा कमला मां ।जब प्यार कर ही लिया है तो डरना किस बात का । क्या पापा ने प्यार नहीं किया था मां से फिर हम इस अनमोल अहसास से द

22

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-22)

31 जुलाई 2023
5
5
0

गतांक से आगे:-तभी सिया को चीखते देखकर जिया का ध्यान भी उधर गया तो कमरे की खिड़की पर राजू ड्राइवर को खड़े पाया ।आज वो जल्दबाजी में किताबें गाड़ी में ही भूल आई थी।जिसे देने के लिए राजू उनके क्लास में पह

23

क्या यही प्यार है -2(भाग:-23)

31 जुलाई 2023
5
5
0

गतांक से आगे:- जिया की सारी रात आंखों ही आंखों में कट गई।सुबह जब नौकरों ने देखा ऊपर सीढ़ियों के दरवाजे की सिटकनी टूटी हुई है तो उनका माथा ठनका । उन्होंने सारा घर छान मारा कि कहीं चोरी तो नहीं हो

24

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-24)

31 जुलाई 2023
5
5
0

गतांक से आगे:-मिस्टर बजाज बहुत शातिर खिलाड़ी थे उन्होंने कमल को बैठने का इशारा करके स्वयं खड़े हो गये रमनी का स्वागत करने के लिए ।"अरे…रे आप और यहां ? सब ठीक तो है ।और सुनाइए मिल में काम कैसा चल रहा ह

25

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-25)

31 जुलाई 2023
6
5
0

गतांक से आगे:- रमनी सहसा चौंकी ,"इतने दिनों बाद "चंचला " अब इसे क्या ले जाना है मुझे से छीन कर ।पहले पति ले गयी, फिर मेरे बच्चों को अपना कहने लगी।उनकी हर बात में टांग अड़ाते थी कि तुम बेटियों को

26

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-26)ं

1 अगस्त 2023
5
3
0

गतांक से आगे:-रमनी तो जैसे पत्थर की मूरत हो गई थी सिया की मौत के बाद ।बार बार अपने मन को धिक्कारती कि ये क्या कर दिया तूने रमनी ? क्या तेरा वहम और अहम् इतना बड़ा हो गया था कि तूने अपनी ही बच्ची को मार

27

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-27)

1 अगस्त 2023
7
5
0

गतांक से आगे:-जो बात चंचला कहकर गई थी वो बात काफी समय से रमनी को भी खटक रही थी कि आखिर अशोक बजाज जैसे इंसान का बेटा जो करोड़ पति है उसके लिए तो बहुत से बड़े बड़े खानदान और पैसे वालों के रिश्ते आ सकते

28

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-28)

1 अगस्त 2023
4
4
0

गतांक से आगे:-रमनी आज सुबह सवेरे ही उठ गयी थी । दरअसल विक्की और गौतम की सगाई एक ही परिवार में दो बहनों के साथ हुई थी ।वो जिया की शादी में तो नहीं आ पाये थे लेकिन बाद में आ रहे थे ।दूसरा आज जिया भी पगफ

29

क्या यही प्यार है -2(भाग:-29)

1 अगस्त 2023
4
4
0

ंगतांक से आगे:-इधर रमनी का पलंग जोर जोर से उछलने लगा ।रमनी समझ गई कि चंचला दीदी है वो कुछ कहना चाहती है ।तभी उसे ऐसे लगा जैसे चंचला उससे कह रही हो "जा रमनी जा ,बचा ले जिया को वो मरने जा रही है ।वो बहु

30

क्या यही प्यार है?-2(भाग:-30)

1 अगस्त 2023
7
5
0

गतांक से आगे:-चंचला खुश थी क्योंकि सदियों बाद उसे मुक्ति मिल रही थी । आखिरकार प्रेत योनि में वह सदियों भटकी थी ।उसने अपनी भक्ति से भगवान को प्रसन्न किया और उनसे मुक्ति मांगी। अपनी और अपने सूरजसेन (जोग

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए